नाबालिग युवती से छेड़खानी पर पुलिस का ढुलमुल रवैया, दबंग आरोपियों को मिल रहा पुलिस का संरक्षण

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.


उत्तर प्रदेश के महोबा जनपद में नाबालिग युवती से छेड़खानी को एक महीने होने वाले हैं। लेकिन अभी तक पुलिस के कानों पर जूं नहीं रेंगी हैं। इस मामले को लेकर पीड़िता एसपी महोबा के बास दो बार जा चुकी है लेकिन अब तक रिपोर्ट भी दर्ज नहीं की गइ है। हैरान करने वाली बात ये है कि जब पुलिस के रिपोर्ट नहीं लिखने पर दुबारा एसपी साहब के पास गई तो एसपी साहब ने पुलिस को कार्रवाही करने के निर्देश दिए तो कोतवाली पुलिस ने आरोपियों आनन-फानन में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इतना ही नहीं पीड़िता को कोतवाली में बुलाकर राजीनामा करने की पुलिस के द्वारा बात कही गई, जब पीड़िता ने मना किया तो पुलिस जेल भेजने का अश्वासन दिया। इतना ही नहीं पुलिस की करतूत पर पीड़िता को शक तक नहीं हो पाया।तीन दिनों तक कोतवाली में बिठाने के बाद पुलिस ने आरोपियों को बिना रिपोर्ट लिखे छोड़ दिया।पीड़िता के मुताबिक यह सब तब पता चला जब कोतवाली से छूटने के बाद आरोपियों ने ही पुलिस की करतूत के बारे कई लोगों से बताया।आरोप है कि कोतवाली से छूटे तो आरोपियों ने पीड़िता को धमकाते हुए कहा कि पुलिस को 20 हजार दिए है।कहीं भी जाओ कोई तुम्हारी सुनने वाला नहीं है।इसके बाद पीड़िता ने डीआईजी चित्रकूट से न्याय की गुहार लगाई,लेकिन वहां भी न्याय के नाम पर अगर कुछ मिला तो अश्वासन।पीड़िता ने 28 नवंबर को डीआजी के यहां प्रार्थना पत्र दिया था जिसमें पीड़िता ने आरोपियों की गिरफ्तारी और जानम-माल की रक्षा की मांग की थी। लेकिन अब तक इस पर कोई कार्रवाही नहीं हुई है।पूरा ममला क्या है..?बता दें कि बीते 12 नवंबर को महोबा कोतवाली के पचपहरा गांव के अंतर्गत तीन शोहदों ने एक नाबालिग लड़की के साथ खुलेआम छेड़छाड़ और मारपीट की,युवती के शोर करने पर मां और अन्य को आते देख जान से मारने की धमकी देते हुए तीनों शोहदे वहां से भाग गए।घटना के बाद पीड़िता की मां न्याय के लिए थानों के चक्कर काट रही है, लेकिन अब तक मामले में प्राथमिकी भी दर्ज नहीं की गई है।ऐसे में अब पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया प्रश्न भी खड़ा हो गया है।अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक पीड़िता न्याय के लिए दो बार पुलिस अधीक्षक कुंवर अनुपम सिंह के पास भी गई, साहब ने उसे न्याय का आश्वासन भी दिया, लेकिन उनका वादा तो वादा ही रह गया और एक बार फिर कानून के रखवालों की आंखों पर बंधी ने साबित कर दिया कि कानून अंधा हो या न हो, लेकिन कानून के रखवाले जरुर अंधे हो गए हैं।बता दें कि पूरा मामला महोबा जिला कोतवाली क्षेत्र के पचपहरा गांव का है। जहां बीते 12 नवंबर,को रामदयाल यादव, गंगा यादव,और देवीदीन यादव ने एक युवती को दुकान जाते वक्त युवती से छेड़खानी की और जब युवती ने विरोध किया तो शोहदों ने लड़की के साथ मारपीट भी की, इतना ही शोहदों ने युवती को धमकाया कि अगर वह पुलिस के पास जाएगी तो वो उसे काटकर फेंक देंगे।कुछ दिनों पहले जब लोकसेवा न्यूनज़ ने खबर को चलाया था तब डीआईजी चित्रकूट ने मामले को संज्ञान में लेते हुए पुलिस को जल्द कार्रवाई के लिए निर्देश दिया था, लेकिन डीजीआई साहब के आदेश को भी एक हफ्ता बीत चुका है, लेकिन महोबा पुलिस अभी भी सो रही है। महोबा पुलिस के इस रवैये से स्पष्ट होता है कि वह आरोपियों से मिली हुई है और उसे बचाने की कोशिश कर रही है। पुलिस की कार्यशैली से मालूम पड़ता है कि प्रदेश में गरीबों को न्याय मिलना मुश्लिक है।निराश्रित है पीड़िता,दबंग आरोपियों को मिल रहा पुलिस का संरक्षणगौरतलब है, पीड़ित युवती की मां के अलावा परिवार में उसकी दो छोटी बहनें हैं। पिता की तीन साल पहले एक सड़क दुर्घटना में मौत हो चुकी है। ऐसे में परिवार में उसकी मां के अलावा ऐसा कोई नहीं है, जो युवती को न्याय दिला सके। आरोप है कि पुलिस आरोपियों से सांट-गांठ के चलते उनको बचा रही है।आरोप है कि पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कराने गई पीड़िता को न्याय देने के बजाय उसकी मां को अपशब्द कहते हुए सुलह करने की बात कही थी।

Source link

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: