बैडमिंटन प्रतियोगिता: सायना और सौरभ फिर बने राष्ट्रीय चैंपियन, सिंधू का सपना टूटा

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

गुवाहाटी। पूर्व विश्व नंबर एक सायना नेहवाल ने ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता पीवी सिंधू को शनिवार को लगातार गेमों में 21-18, 21-15 से हराकर 83वीं सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन प्रतियोगिता में अपना खिताब बरकरार रखा।
दूसरी वरीय सायना ने टॉप सीड सिधू को 44 मिनट में पराजित कर खुद को फिर से राष्ट्रीय क्वीन साबित किया है।

सायना ने चौथी बार यह खिताब जीता है। पुरुष एकल वर्ग में पूर्व विजेता सौरभ वर्मा ने युवा स्टार लक्ष्य सेन को 44 मिनट में 21-18, 21-13 से हराकर तीसरी बार खिताब अपने नाम किया। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और भारतीय बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष हिमांता बिस्वा सरमा ने विजेता खिलाड़ियों को पुरस्कृत किया।

एकल विजेता को 3.25 लाख रुपए मिले जबकि उपविजेता को 1.7 लाख रुपए मिले। सेमीफाइनलिस्ट को 62,500 रुपए और क्वार्टरफाइनलिस्ट को 27,500 रुपए मिले। सायना ने 2017 में पिछली राष्ट्रीय चैंपियनशिप के फाइनल में भी सिंधू को हराकर खिताब जीता था और इस बार भी उन्होंने सिंधू को फाइनल में लगातार गेमों में शिकस्त दे दी। उम्मीद की जा रही थी कि 2018 के अंत में दुनिया की शीर्ष आठ खिलाड़ियों का टूर्नामेंट जीतने वाली सिंधू सायना से पिछली हार का बदला चुकाएंगी लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिल पायी।

विश्व रैंकिंग में नौवें नंबर की सायना ने छठीं रैंकिंग की सिंधू को लगातार गेमों में पराजित कर चौथी बार राष्ट्रीय खिताब जीत लिया। सायना ने इससे पहले 2006, 2007 और 2017 में यह खिताब जीता था। वर्ष 2011 और 2013 में चैंपियन रहीं सिंधू का तीसरी बार राष्ट्रीय खिताब जीतने का सपना पूरा नहीं होे पाया। सायना ने पिछले साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में भी सिंधू को पराजित कर स्वर्ण पदक जीता था।

फाइनल में सिंधू ने पहला अंक लिया और जल्द ही 3-0 की बढ़त बना ली। सायना ने वापसी करते हुए स्कोर 5-5 से बराबर किया। सिधू ने फिर 10-9 की बढ़त बनाई जबकि सायना पहले ब्रेक पर 11-10 से आगे हो गई। सायना ने यहां से पीछे मुड़कर नहीं देखा और अपनी बढ़त को 15-11 और 18-15 पहुंचा दिया। इस बीच स्टेडियम में बिजली की गड़बड़ी के कारण कुछ देर के लिए खेल रुका। खेल शुरु होने पर सिंधू ने लगातार दो अंक लिए और स्कोर 17-18 कर दिया। लेकिन सायना ने अपनी पकड़ बनाए रखते हुए पहला गेम 21-18 पर समाप्त किया।

दूसरे गेम में सिंधू 5-3 से आगे हुईं लेकिन सायना ने 5-5 से बराबरी की। स्कोर फिर 7-7 पर बराबर हुआ। पहले गेम की तरह दूसरे गेम में भी सायना ब्रेक पर 11-9 से आगे थीं। सायना ने सिंधू को गलतियां करने पर मजबूर किया और अपनी बढ़त को 15-12 पहुंचा दिया। सायना ने बढ़त को 19-13 पहुंचाने के बाद 21-15 से यह गेम समाप्त करते हुए अपना चौथा राष्ट्रीय खिताब जीत लिया।

पुरुष वर्ग में विश्व रैंकिंग में 55वें नंबर के खिलाड़ी सौरभ वर्मा ने तीसरी बार राष्ट्रीय खिताब जीत लिया। सौरभ ने 106वीं रैंकिंग के लक्ष्य सेन को 44 मिनट में 21-18, 21-13 से हराया। सौरभ ने इससे पहले 2011 और 2017 में यह खिताब जीता था। सौरभ ने 2017 के फाइनल में भी लक्ष्य को हराया था।

एशियन जूनियर चैंपियन लक्ष्य सेन ने पहले गेम में कुछ संघर्ष किया लेकिन फिर दूसरे गेम में उन्होंने अपने हथियार डाल दिए। सौरभ इस तरह फिर राष्ट्रीय चैंपियन बन गए। इस बीच पुरुष युगल में दूसरी सीड प्रणव जैरी चौपड़ा और चिराग ने फाइनल में टॉप सीड अर्जुन एमआर और श्लोक रामचंद्रन को 33 मिनट में 21-13, 22-2० से हराकर खिताब जीता।

महिला युगल का खिताब शिखा गौतम और अश्विनी ने जीता। शिखा गौतम और अश्विनी भS ने टाप सीड मेघना जे और पूर्विशा राम को 38 मिनट में 21-16, 22-20 से हराया। मिश्रित युगल में मनु अत्री तथा मनीषा के ने टाप सीड रोहन कपूर और कुहू गर्ग को 57 मिनट में 18-21, 21-17, 21-16 से हराकर खिताब अपने नाम किया। टूर्नामेंट के पांच फाइनल में से चार में शीर्ष वरीय खिलाड़ियों को हार का सामना करना पड़ा।

Source link

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: