केरल में विदेशी पर्यटकों की संख्या दोगुनी करने का लक्ष्य

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

नई दिल्ली। केरल अपने पर्यटन क्षेत्र के विकास में जोर-शोर से जुटा है और वर्ष 2020 तक उसने विदेशी पर्यटकों की संख्या दुगुनी करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। केरल पर्यटन विभाग के सूचना अधिकारी बीजू बीएस ने मंगलवार को यहां मीडिया को बताया कि केरल प्राकृतिक सुंदरता, भौगोलिक संरचना, संस्कृति, सांस्कृतिक उत्सवों, नृत्यों, हस्तशिल्प, कलाकृतियों, कृषि उत्पादों, व्यंजनों आदि के क्षेत्र में देश के अन्य राज्यों से अनोखा है।

उन्होंने बताया कि विभाग का 2020 तक 2018 की तुलना में दोगुने विदेशी पर्यटकों को राज्य में आकर्षित करने का लक्ष्य है। घरेलू पर्यटकों की वृद्धि दर 2017 तक 11.3 प्रतिशत थी जिसे 2020 तक 50 फीसदी बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। बीजू ने बताया कि इसके तहत भुवनेश्वर, विजयवाड़ा, अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत, लखनऊ, इंदौर, नागपुर, पुणे और मुंबई में गत वर्ष पार्टनरशिप मीट आयोजित की गई।

इनमें केरल की 40 पर्यटन उद्योग से जुड़ी कंपनियों से संबद्ध शहरों के पर्यटन व्यापार से संवाद का अवसर प्रदान कराया गया। दिल्ली में भी आज इसी तरह की एक मीट आयोजित की गई, जिसमें पर्यटन क्षेत्र की नामी-गिरानी कंपनियों ने शिरकत की। इस वर्ष जयपुर, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोलकाता, विशाखापटनम, चेन्नई और मदुरै में इसी तरह की मीट आयोजित की जाएंगी।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2017 घरेलू और विदेशी पर्यटकों की दृष्टि से बहुत अहम रहा। उस वर्ष घरेलू पर्यटकों की संख्या 11.39 प्रतिशत की वर्ष दर वृद्धि से 14673520 हो गई। वर्ष 2017 में विदेशी पर्यटकों की संख्या 2016 के मुकाबले 5.15 फीसदी बढकर 1091870 हो गई। बीजू ने बताया कि कन्नूर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के उद्घाटन के साथ ही केरल देश का एकमात्र राज्य बन गया है जहां चार अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे हैं।

उन्होंने बताया कि मनोरम ­दृश्यों और सुविधाओं के कारण केरल हमेशा पर्यटकों की प्राथमिकता सूची में रहा है। विभाग केरल को ऐसा पर्यटन स्थल बनाने के मिशन पर है जहां मनोरंजन के साथ आत्मिक आनंद मिले। इस प्रयास के तहत देश भर में कई उत्सव के साथ ही निशागंधी नृत्य उत्सव आयोजित किए जाएंगे।

Source link

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: