कानपुर में 16वां सर्वजातीय विवाह सम्मेलन आयोजित

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

आज रविवार को मोतीझील लान से जय बाबा योगेश्वर सेवा समिति के तत्वाधान में सर्वजातीय 51 बहनों की शादी मोतीझील लान से बड़ी धूमधाम से संपन्न हुई। मोतीझील के विशाल प्रांगण में विशाल पंडाल लगाया गया। जहां 5000 लोगों की कुर्सियों की बैठने की व्यवस्था की गई । स्थल पर 51 मण्डप लगे थे। हर मण्डप पर लङका एवं लङकी के नाम की पट्टिका लगी थी। विशाल मंच से कार्यक्रम का संचालन सुनील ब्रह्मचारी के द्वारा किया गया। आज सुबह से ही 51 बहनें अपने संरक्षको के साथ अपने अपने मंडप लेकर सुबह 8:00 बजे मोती झील लान पर आई।उनके आते ही संस्था के भाइयों ने सभी 51 बहनों के मंडप को लाइन से लगवा कर स्थान दिया एवं कार्यक्रम स्थल पर एक मेकअप रूम भी बनवाया गया था। जहां पर सभी बहनों का ब्यूटी पार्लर द्वारा संस्था की बहन, भाभियों ने श्रृंगार किया।

दूसरी तरफ मोतीझील लान गेट से 51 दूल्हे सुबह 10:00 बजे उपस्थित हुए। वहां 51 दूल्हों को 51 घोड़ों पर बिठाया गया। बारात में शहर के जाने-माने आधा दर्जन बैंड अपनी-अपनी धुन बिखेर रहे थे। बारात में सबसे आगे घोड़े पर सवार राम-लखन जी उसके बाद भगवान से सजे हुए रथ झांकियां गणेश जी की बजरंग बली बाबा सभी बारातियों को आशीर्वाद दे रहे थे। बारात में बंदरों की सेना, भूत चुड़ैलों की सेना खूब नाच कर हल्ला मचा रहे थे। लिल्ली घोड़ी भी अपना जलवा बिखेर रही थी। हजारों जनाती एवं बाराती शहर के तमाम लोग बैंड की धुनों में थिरक रहे थे और खुशी से खूब भगवान के जयकारे लगवा रहे थे। आतिशबाजी भी अपना जलवा बिखेर रही थी।

मोतीझील लान से जब बारात उठी तो क्षेत्रीय लोग 51 दूल्हों की बारात को देखने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा। हजारों क्षेत्रीय लोग 51 दूल्हों की बारात पर फूलों की वर्षा कर रहे थे। रास्ते में कई समाज सेवकों ने जलपान भी कराया। बारात नाचते-कूदते जब मोतीझील लान में पहुंची तो वहां संस्था एवं शहर के अनेक समाज सेवकों ने दूल्हे एवं बारातियों का द्वारचार कर माला पहनाकर स्वागत किया। जब बारात लान में प्रवेश हुई तो पूरा विशाल लान एवं मोतीझील प्रांगण खचाखच भरा हुआ था। संस्था के भाई ने सभी 51 दूल्हों को मंच पर बैठाया। उसके बाद सभी 51 बहनों को मंच पर उनकी सखी-सहेलियां लेकर आई। सभी 51 बहनों का जयमाल का कार्यक्रम संपन्न करवाया गया। जयमाल के समय बाघपुर स्थित शिवली रोड के श्री योगेश्वर जी महाराज के जयकारे लग रहे थे। जिनकी प्रेरणा और आशीर्वाद से यह सर्वजातीय 51 बहनों का शुभ विवाह 13वीं बार संपन्न हो रहा था। वहां पर उपस्थित जनमानस तालियां बजाकर आशीर्वाद दे रहे थे। सभी 51 बहनों पर जमकर फूलों की वर्षा हो रही थी।

जयमाल के बाद सभी 51 बहनों एवं बहनोईयों को संस्था के भाई उनको उनके मंडप पर ले गए। जहां पर 51 मंडप लगे थे। हर मंडप पर उच्च कोटि के आचार्यों द्वारा पूरे विधि विधान के साथ उनकी भवरे एवं फेरे करवा कर विवाह की रस्म पूरी करवाई गई। जिस समय कन्या के पैर पूजने का कार्यक्रम करवाया गया। तो शहर के हजारों लोगों ने सभी 51 बहनों के पैरों को पूजकर उनका आशीर्वाद लिया। पैर पूजने वालों की लाइन लग गई सभी 51 बहनें भाव-विभोर हो गई और बहुत खुश थी। कार्यक्रम स्थल पर बाराती एवं जनातियों के मनोरंजन के लिए आर्केस्ट्रा एवं झांकियों द्वारा स्टेज डांस ग्रुप डांस हुआ। तो वहां उपस्थित जनमानस ने बहुत मजा लिया और खूब गानों की धुन पर थिरके। आए हुए सभी लोगों के लिए संस्था ने 50000 लोगों के लिए भोजन एवं पानी की व्यवस्था की। सभी लोगों ने मां अन्नपूर्णा का भंडारा प्राप्त किया। भोजन में मीठा भी था। सैकड़ों कार्यकर्ता भोजन परोस रहे थे और पूरे उत्साह से भोलेनाथ के जयकारे लगा रहे थे।

कार्यक्रम स्थल पर सर्वजातीय सामूहिक विवाह समारोह के मुख्य अतिथि शंकर भगवान थे। जिनकी कार्यक्रम स्थल पर सुंदर सी झांकी बनाई गई और उनका भव्य श्रृंगार किया गया। फेरों के बाद विदाई की रस्म का समय जब आया तो माहौल बिल्कुल बदल गया। संस्था के भाइयों ने सभी 51 बहनों एवं उनके जीवन साथी को मंच पर बुलाया। उनको भोजन पानी कराया। विदाई के समय जब विदाई गीत बाबुल की दुआएं लेती जा,ओ मां तू कितनी अच्छी है,तू कितनी भोली है, के गीत बजे तो वहां पर सन्नाटा छा गया। सभी बहने एवं उनके परिवार के लोग शिशक पड़े। मनीषा साहू,परमट,कानपुर नगर जिसके माता-पिता इस दुनिया में नहीं है। विदाई के समय फफक कर रो पड़ी और माइक पर आकर के रोते-रोते बोली कि मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मेरा विवाह इतनी धूमधाम से होगा। भगवान संस्था के सभी भाइयों को सही सलामत रखे। बहन शिवा तिवारी,कल्याणपुर,कानपुर नगर के माता-पिता इस दुनिया में नहीं है। विदाई के समय पर रोते-रोते खुशी में बेहोश हो गई।होश आने पर वह रोते हुए बोली संस्था के भाइयों ने जिस तरह हमको विदा किया है।उस तरह एक सगा भाई ही विदा कर सकता है। बहन अंशु के माता पिता इस दुनिया में नहीं है। विदाई के समय अंशु संस्था की भाभियों से लिपट कर रो पड़ी और बोली भाभी जी आगे भी हमारा ध्यान रखना। आप लोगों के सिवा मेरा इस दुनिया में कोई नहीं है। यह सुनकर भाभियाँ भी फफक कर रो पड़ी और कहा कि हम तुम्हारा हमेशा ध्यान रखेंगे। बहन नीतू,अनवरगंज,कानपुर नगर के पिता इस दुनिया में नहीं है। विदाई के समय नीतू अपनी मां के पैरों में रोते-रोते गिर पड़ी। मां भी बिलख कर रोते हुए बेहोश हो गई यह देख कर उपस्थित जनमानस की आंखें भर आई। बहन दीपमाला,रानी का बगीचा,पुराना कानपुर जो कि दोनों पैरों से विकलांग है। विदाई के समय माॅ चमेली से दहाड़ कर रोते हुए बोली कि मेरी बैसाखी दीपमाला आज हमसे बहुत दूर जा रही है। मेरी चिरैया आज उड़ी जा रही है। भगवान जय बाबा योगेश्वर सेवा समिति ने हमारी वैशाखी बन करके हमारी बिटिया को विदा करने का काम किया है। संस्था के सभी भाइयों को ईश्वर इतनी शक्ति दे कि वह सदा फले फूले।

वर वधू को आशीर्वाद देने के लिए शहर के कई विधायक सांसद एवं अधिकारीगणों का तांता लगा रहा उपस्थित लोग प्रमिला पांडे(मेयर),अजय कपूर(पूर्व विधायक),सत्यदेव पचौरी(विधायक),सतीश महाना(विधायक),विजय कपूर(चेयरमैन दादानगर),डॉक्टर संजय कपूर(चेयरमैन केसीए),रघुनंदन सिंह भदोरिया(पूर्व विधायक),सतीश निगम(पूर्व विधायक),चंद्रेश सिंह(पूर्व जिलाध्यक्ष),इरफान सोलंकी(विधायक),अरुण पाठक(एमएलसी),अमिताभ बाजपेई(विधायक),सोहेल अंसारी(विधायक),विनम्र सिंह(जिलाध्यक्ष,भाकियू) के साथ दर्जनों लोग आए और कार्यक्रम की सराहना की। विदाई के बाद संस्था के विधि सलाहकार ने सभी 51 वर पक्ष के संरक्षकों को शादी में दिए गए गिफ्ट अलमारी,टेलीविजन,बेड,गद्दा,फोल्डिंग पलंग,सिलाई मशीन,बड़ा बक्सा,छोटा बक्सा,इलेक्ट्रॉनिक प्रेस,गार्डन सेट,प्रेशर कुकर,साड़ियां,मंगलसूत्र,बिछिया,5 कुंटल की बखारी,पायल,बाल्टी,टब,कम्बलआदि लगभग 75 गिफ्ट आइटम उनको सौंप दिए। कार्यक्रम संयोजक एवं संस्था के अध्यक्ष सुनील ब्रह्मचारी ने बताया कि जय बाबा योगेश्वर सेवा समिति का यह 16 माह समारोह है। इस बार 3 कन्याओं के माता-पिता नहीं है एवं 15 कन्याओं के पिता नहीं है एवं एक कन्या विकलांग है और कई बहनों के पिता लंबी बीमारी से जूझ रहे हैं। सभी 51 बहनें अति निर्धन परिवार की है। जय बाबा योगेश्वर सेवा समिति ने शहर एवं शहर के आसपास के जिलों में दर्जनों संस्थाओं का मार्गदर्शन किया है। जिससे कि अधिक से अधिक कन्याओं का विवाह निशुल्क संपन्न हो सके।

यह समारोह शिवली रोड स्थित बाघपुर श्री योगेश्वर जी महाराज की कृपा से संपन्न होता है। वह इस कार्यक्रम के प्रेरणा स्रोत हैं।सभी 51 बहनों की चौथी 7 फरवरी दिन गुरुवार को बाबा आनंदेश्वर मंदिर गेट पर शिव नारायण पार्क परमट से संपन्न होगी।

समारोह में प्रमुख लोग उपस्थित थे- सुनील ब्रह्मचारी(अध्यक्ष),उमेश शुक्ला(टिंकू भैया,वरिष्ठ उपाध्यक्ष),रमापति झुनझुनवाला(महासचिव),नरेंद्र सिंह(पिंटू सेंगर),देवेश त्रिपाठी(एडवोकेट विधि सलाहकार),नरेंद्र सिंह(पिंटू ठाकुर),राजेश अग्रवाल,उमेश दीक्षित(मामा जी),सचिन तागड़ी,संदीप ठाकुर,अजीत सिन्हा,राकेश ओझा(लहरी),अशोक मिश्रा,विकास गुप्ता,संतोष शर्मा(लालू एडवोकेट),उमेश पैंथर,आदित्य पांडे(एडवोकेट),प्रीति अवस्थी,राकेश मिश्रा(निडर)रिंकू ठाकुर आदि लोग थे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: