जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हत्या और उपद्रव तीन दोषियों को आजीवन कैद की सजा

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

हिसार। हरियाणा के हिसार जिले के अतिरिक्त जिला एवं सत्र जज आरडी चालिया की अदालत ने राज्य में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान 22 फरवरी 2016 को जिले के हांसी उपमंडल ढाणी पाल गांव में एक युवक मिंटू गुर्जर की गोली मारकर हत्या और उपद्रव करने के मामले में 3 दोषियों सिसाय गांव के दलजीत, सोनीपत के पवन उर्फ पौना और दादरी के सुरेंद्र उर्फ झिडा को आज आजीवन कारावास की कैद सजा सुनाई।

अदालत ने प्रत्येक दोषी पर 17500 रुपए का जुर्माना भी लगाया। अभियोग के मुताबिक जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान 20-21 फरवरी 2016 को सिसाय और सैनीपुरा, ढाणी पाल गांव के ग्रामीणों के बीच टकराव हुआ था। इस दौरान ढाणी पाल में आरोपी दलजीत ने अपने साथियों के साथ मिलकर मकानों में आगजनी, लूटपाट सहित अन्य वारदात कीं।

ढाणी पाल में रहने वाली महिला शांति का हाल जानने के लिए 22 फरवरी को उसके चचेरे भाई मिटू गुर्जर और कृष्ण बाइक पर सवार होकर आए थे और दोपहर दो बजे 70-75 लोगों ने वहां फिर से हमला बोल दिया। हमलावरों ने फायरिंग की जिस पर मिटू गुर्जर और कृष्ण जान बचाने के लिए खेतों में भागने लगे। हमलावरों ने उन पर भी गोलियां चलाईं जिसमें दोनों गम्भीर रूप से घायल हो गए।

लालपुरा गांववासियों ने कृष्ण को घायलावस्था में अस्पताल पहुंचाया लेकिन मिंटू का तब कहीं पता नहीं चला। अगले दिन 23 फरवरी को सुबह गोलियों से छलनी उसका शव ढाणी पाल के पीछे खेतों में पाया गया था। हत्या की इस वारदात में पुलिस ने दलजीत, पवन और सुरेंद्र के खिलाफ हत्या, शस्त्र अधिनियम, लूटपाट, हत्या के प्रयास और आगजनी के अपराधों में विभिन्न धाराओं मामले दर्ज किये थे।

अदालत ने तीनों को गत 25 जनवरी को इन मामलों में दोषी करार देते हुए सजा सुनाने के लिए 30 जनवरी की तारीख रखी थी। उल्लेखनीय है कि फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान प्रदेश में भारी हिंसा हुई थी। इसकी आंच शहरों, कस्बों से होती हुई गांवों-की ढाणियों तक पहुंची थी।

मारपीट और आगजनी से बदहवास लोग पलायन को मजबूर हो गए थे। हिसार में हांसी के सिसाय पुल के पास दो गुटों में पूरे दिन संघर्ष चला था। उपद्रवियों ने ढाणियों में आग लगा दी थी। पशु भी इसकी चपेट में आ गए थे। लगभग 600 महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को जान बचाकर हिसार शहर की ओर भागना पड़ा था। बाद में सेना ने मौके पर पहुंचकर स्थिति को नियंत्रण में किया था।

Source link

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: