04 जनवरी : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

प्रेस24 न्यूज़ – Press24 News, KNMN2019 लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के लिए बड़ी चुनौती बन सकते हैं राहुल गांधी

नई दिल्ली। राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालने के बाद पार्टी को मिली सफलता से न केवल वह पार्टी में एकछत्र नेता बनकर उभरे बल्कि उनका राजनीतिक कद बढ़ा है तथा यह माना जाने लगा है कि वह अगले कुछ महीनों में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए बड़ी चुनौती बन सकते हैं।

एक वर्ष पहले गांधी के अध्यक्ष संभालने के बाद पार्टी ने 2018 में चुनावी रण में अच्छा प्रदर्शन किया जिसके चलते वह भारतीय जनता पार्टी को चार राज्यों में सत्ता से बाहर करने में सफल हुयी जबकि इससे पहले उसे लगातार उसे एक के एक बाद शिकस्त का सामना करना पड़ रहा था।

कर्नाटक में जिस तरह पार्टी के रणनीतिकारों ने तेजी और चतुराई से काम किया उसके आगे भाजपा की एक नहीं चल पाई और विधानसभा में बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद सत्ता से बाहर होना पड़ा। पिछले नवंबर-दिसंबर में हुये विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ सीधी लड़ाई वाले तीन राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ में सरकार बनायी उससे न केवल पार्टी कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ा बल्कि गांधी का राजनीतिक कद भी बढ़ा।

द्रविड मुन्नेत्र कषगम (द्रमुक) जैसे सहयोगी दल ने उन्हें विपक्षी दलों की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाये जाने का सुझाव दिया वहीं कांग्रेस की कट्टर विरोधी रही शिवसेना ने भी गांधी के नेतृत्व की सराहना की। बीते वर्ष गांधी ने विभिन्न राजनीतिक मंचों में जिस आत्मविश्वास से प्रभावी उपस्थिति दर्ज की उससे उनकी छवि में जबरदस्त सुधार हुआ और जनमानस को उनके व्यक्तित्व में क्रांतिकारी बदलाव देखने को मिला।

कांग्रेस के दिल्ली में हुए 84वें महाअधिवेशन में पार्टी अध्यक्ष के रूप में गांधी के नाम पर मोहर लगी थी और इसमें उन्होंने जिस विजन के साथ अपनी बात रखी उससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उन पर भरोसा बढा और उन्हें लगा कि पार्टी की कमान सही हाथों में है। कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद सोनिया गांधी ने भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संदेश दिया था कि राहुल गांधी कांग्रेस के एकमात्र नेता हैं।

गांधी ने फरवरी मेें कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में पार्टी के नेताओं स्पष्ट शब्दों में संदेश देते हुए कहा कि राहुल अब सबके बॉस हैं। वह मेरे भी बॉस हैं। गांधी के नेतृत्व में पार्टी ने पहले गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रभावशाली प्रदर्शन किया और फिर कर्नाटक में गठबंधन सरकार बनाकर समर्थकों का जो विश्वास अर्जित किया साल के अंत तक तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनाकर इस विश्वास को और मजबूती प्रदान की।

इससे कांग्रेस कार्यकर्ता गांधी के मुरीद हो गए और विपक्षी दलों की गठबंधन की राजनीति में भी उनका वजन बढा है। बाद में द्रमुक के प्रमुख स्टालिन ने खुले मंच से कहा कि गांधी विपक्षी दलों की तरफ से प्रधानमंत्री पद का चेहरा है। 
गांधी के व्यक्तित्व में हाल के वर्षों बड़ा बदलाव आया है और उन्होंने अपनी आलोचनाओं और विरोधियों की टिप्पणियों पर ध्यान दिए बिना अपनी बात पूरे जोर शोर से सामने रखनी शुरू कर दी। उन्होंने स्वयं पत्रकारों से कहा कि उनके विरोधी उन्हें क्या नाम देते हैं और क्या कहते हैं इससे उन्हें अब कोई फर्क नहीं पड़ता।

उन्होंने कहा कि आलोचना सुनते-सुनते उनकी चमड़ी बहुत मोटी हो चुकी है इसलिए अब इनका उन पर कोई असर नहीं होता। उन्होंने स्वीकार किया कि बदले माहौल में किस तरह की राजनीति करनी है यह सब भी उन्होंने आलोचना करने वालों से सीखा है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने विदेशों में भारतीय समुदाय के लोगों से उसी तर्ज पर मिलना शुरू किया जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मिलते रहे हैं। अमेरिका और खाड़ी देशों की यात्रा के दौरान उन्होंने भारतीय समुदाय के लोगों से मिलकर उनसे जो बात की उससे वह खासे चर्चा में रहे और उनका व्यक्तित्व नए रूप में सामने आया। इसके अलावा उन्होंने मंदिरों में जाना शुरू किया है और त्रिपुंड लगाकर जनता के बीच जाकर यह संदेश देने का पूरा प्रयास किया कि वह भी हिंदू हैं और उन्हें भी अपने देवी-देवताओं पर भरोसा है।

बीते साल इस संदर्भ में उन्होंने कैलास मानसरोवर की दुर्गम यात्रा कर यह सिद्ध किया कि वह भी किसी शिवभक्त से कम नहीं हैं। इस क्रम में जनेऊधारी के रूप में और अपने गोत्र का नाम बताने को लेकर भी वह खूब सुर्खियों में रहे। चुनाव प्रचार के दौरान जिस क्षेत्र में भी गये वहां के प्रसिद्ध मंदिर में जाकर पूजा अर्चना की और लोगों का विश्वास जीता।

कांग्रेस ने साल की शुरुआत से ही सरकार के विरुद्ध आक्रामक रुख अपनाए रखा। साल के पहले दिन उसने असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर का मुद्दा उठाया और मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि उसे असम के शांति समझौते 1985 का अनुपालन करना चाहिए। यह समझौता तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने किया था। गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने बीते वर्ष में जिस तेवर के साथ मोदी और उनकी सरकार पर हमले शुरू किए उसने सरकार की बेचैनी जरूर बढायी है।

गांधी का हर हमला सीधे मोदी पर होता है। राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर उन्होंने मोदी को पूरे साल घेरे रखा और सरकार इस पर सफाई देते दिखी। भ्रष्टाचार के पुराने मामलों को लेकर भाजपा की ओर से गांधी परिवार पर लगातार हमलों का भी उन पर असर पड़ता नहीं दिखा। पीछे हटने की बजाय गांधी ने प्रधानमंत्री के विरूद्ध अपने आरोपों को और धार दी।

कांग्रेस सरकार की मंशा राफेल विमान खरीदने की नहीं थी: रक्षा मंत्री



नयी दिल्ली। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने राफेल मामले में कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए शुक्रवार को कहा कि सरकार में रहते हुए कांग्रेस की मंशा विमान की खरीदने की नहीं थी, जबकि राष्ट्रीय सुरक्षा को जोखिम था। लोकसभा में राफेल मामले पर चर्चा का जवाब देते हुए सीतारमण ने कहा मेरा आरोप है कि उनका इरादा विमान खरीदने का इरादा नहीं था। राष्ट्रीय सुरक्षा को जोखिम था, लेकिन वे विमान नहीं खरीदना चाहते थे। 

उन्होंने कहा कि सरकारों के बीच समझौते पर 23 सितंबर, 2016 को हस्ताक्षर किया गया। पहला विमान इस तिथि से तीन साल के भीतर यानी 2019 में आ जाएगा और शेष विमान 2022 तक आ जाएंगे। रक्षा मंत्री ने कहा कि बातचीत की प्रक्रिया 14 महीने में पूरी कर ली गई। हमने 10 साल का समय नहीं लगाया। उन्होंने कांग्रेस पर देश को इस मुद्दे पर गुमराह करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘‘आपने (कांग्रेस) सौदे को रोक दिया। यह भूल गये कि वायुसेना को इसकी जरूरत है। क्योंकि यह सौदा आपको रास नहीं आया। दरअसल इससे आपको पैसा नहीं मिला।

पाकिस्तान ने एक बार फिर सर्जिकल स्ट्राइक पर दिया बयान कहा- ये कोरी कल्पना, नहीं हुआ कुछ ऐसा



इंटरनेट डेस्क: पाकिस्तान ने एक बार फिर से सर्जिकल स्ट्राईक पर बयान दिया है दरअसल पाकिस्तान ने भारत द्वार हुए 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक को भारतीय कल्पना की उड़ान करार देकर इसे खारिज किया है उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था, हिन्दुस्तान की सेना ने 26 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा के पार करके पाकिस्तान में मौजूद कई आतंकी ठिकानों पर जबरदस्त करवाई की थी, पाकिस्तान के लॉन्च पैडों पर सर्जिकल स्ट्राइक कर पूरी दुनिया से प्रशंसा लुटी थी  इस सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान कई आंतकियों को भी सेना ने मार गिराया था लेकिन पाकिस्तान ने ऐसे हमलों से इनकार  किया है 

यह बात पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल कहीं जब उनके साप्ताहिक ब्रीफिंग के दौरान जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नए साल के मौके पर एक इंटरव्यू में सर्जिकल स्ट्राइक पर दिए उल्लेख के बारे में पूछा तब प्रवक्ता ने ये बात कही उन्होंने आगे कहा कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था, यह भारतीय कल्पना की उड़ान भर ही है, क्योंकि खुद भारतीय मीडिया भी अपनी सरकार के दावे पर संदेह कर रहा है वैसे जानकारी के लिए आपकों बता दें कि मंगलवार को एक इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि यह सोचना बड़ी भूल होगी कि बस एक लड़ाई से पाकिस्तान अपना तौर तरीके बदलेगा उनका इशारा 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक की ओर था

जब पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता फैजल से भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता के बारे में प्रश्न पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यदि भारत वार्ता से संकोच करता है तो हम कुछ खास नहीं कर सकते है क्योंकि बातचित के लिए दोनों को ही आगे आना होगा वैसे आपकों बतादें की् भारत ने भी पाकिस्तान को स्पष्ट कर दिया है कि वार्ता और आतंकवाद एक साथ नहीं चल सकते है 

विस्फोट में तीन तालिबानी आतंकवादियों की मौत



मजार-ए-शरीफ। अफगानिस्तान के बाल्ख प्रांत के चमताल जिले में एक बम के फट जाने से से तीन तालिबान आतंकवादी मारे गए हैं। सेना के प्रवक्ता ने यह जानकारी दी है। प्रवक्ता अब्दुल हादी जमाल ने शुक्रवार को बताया कि जब ये आतंकवादी चमताल जिले के यांगी काला इलाके में गुरुवार शाम एक सड़क पर बारूदी सुरंग बिछा रहे थे तो उसी दौरान यह विस्फोट हुआ। यह सुरंग सुरक्षा बलों को निशाना बनाने के लिए ही बिछाई जा रही थी लेकिन इस काम में लाए जा रहे बम के अचानक फटने से तीन तालिबानी आतंकवादियों की मौके पर ही मौत हो गई। तालिबान ने फिलहाल कोई पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

इस बीच संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तरी अफगानिस्तान में सुरक्षा चौकियों को निशाना बनाकर किए जा रहे आतंकवादी हमलों की कड़ी निंदा की है। सोमवार को ऐसे ही हमले में 27 लोग मारे गए और कई अन्य घायल हो गए थे। संरा ने गुरुवार को जारी एक बयान में कहा​ कि सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने पीड़ितों के परिवारों और अफगानिस्तान सरकार के प्रति गहरी सहानुभूति और संवेदना व्यक्त की है।

साथ ही उन्होंने सभी घायलों के शीघ्र ही पूरी तरह से स्वस्थ होने की कामना की है। गौरतलब है कि तालिबान आतंकवादियों ने सर-ए-पुल और बाल्ख प्रांतों में इन हमलों को अंजाम दिया और तीन इलाकों में अफगानी सुरक्षा बलों को निशाना बनाया। आतंकवादियों ने सयाद जिले के मध्य में, सर-ए-पुल और जॉगजान को जोड़ने वाले सड़क मार्ग तथा तेल के कुंएं वाले एक गांव को निशाना बनाया था। 

वरूण-आलिया को लेकर फिल्म बनायेंगे डेविड धवन



मुंबई। बॉलीवुड निर्देशक डेविड धवन अपने पुत्र वरूण धवन और आलिया भट्ट को लेकर रोमांटिक फिल्म बनाने जा रहे हैं। वरूण और आलिया की जोड़ी को दर्शक बेहद पसंद करते हैं। दोनों ने फिल्म‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरूआत की थी।

इसके बाद दोनों ने ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’और‘हम्पटी शर्मा का दुल्हिनया’में साथ काम किया और सभी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर हिट साबित हुयी। इन दिनों वरूण और आलिया फिल्म‘कलंक’में साथ काम कर रहे हैं।वरुण धवन के पिता डेविड धवन इस जोड़ी को लेकर एक फिल्म बनाने की तैयारी में हैं। अभी फिल्म के नाम को लेकर कोई खुलासा नहीं किया गया है। आलिया भट्ट, डेविड धवन के साथ पहली बार नजर आएंगी. वहीं वरुण धवन अपने पापा के साथ अब तक दो सुपरहिट फिल्म‘मैं तेरा हीरो’और‘जुडवां’2 में नजर आ चुके हैं। 

सलमान ने किसिंग सीन नहीं करने की बतायी वजह



मुंबई। बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ने फिल्मों में किसिंग सीन नहीं करने की वजह बतायी है। सलमान खान फिल्मों में किसिंग सीन नहीं करते हैं। सलमान खान ऐसा क्यों नहीं करते और उन्होंने अपनी फिल्मों को लेकर ऐसा निर्णय क्यों लिया है। इसका राज अब खुल गया है।

सोनी टीवी पर कपिल शर्मा के शो में सलमान खान के साथ उनके दोनों भाई शामिल हुए हैं। इसी क्रम में सलमान ने बताया कि जब उनका पूरा परिवार कभी साथ में बैठ कर अंग्रेजी फिल्म देखा करता था और कोई किसिंग सीन आ जाते थे तो सभी इधर-उधर देखने लगते थे और एक दूसरे से नजर नहीं मिला पाते थे। एक दूसरे के साथ सहज नहीं रहते थे, इसलिए सलमान महसूस करते हैं कि परिवार के साथ चुम्बन वाले ²श्यों को देखने में दिक्कत होती है। यही वजह है कि सलमान खान ने तय किया कि वह किभसग सीन नहीं करेंगे।

कपिल शर्मा ने सलमान से पूछा कि यदि किसी अभिनेत्री की पहली फिल्म है और उनके साथ उन्हें रोमांटिक सीन करना है तो वह किस तरह करेंगे। सलमान खान ने इस पर कहा कि किसिंग सीन तो मैं करता नहीं। तभी बातों-बातों में अरबाज खान ने बता दिया कि वह ऑफ स्क्रीन इतना कर लेते हैं कि उन्हें ऑन स्क्रीन की जरूरत नहीं पड़ती। 

पेन और तेज गेंदबाजों के बीच कुछ भ्रम की स्थिति थी : सेकर



सिडनी। आस्ट्रेलिया के गेंदबाजी कोच डेविड सेकर ने खुलासा किया है कि कप्तान टिम पेन और उनके तेज गेंदबाजों के बीच भारत के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच के पहले दिन टीम की रणनीति को लेकर कुछ भ्रम की स्थिति बनी थी और दिन का खेल समाप्त होने के बाद इसको लेकर बहस भी हुई। 

आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड, मिशेल स्टार्क और पैट कमिन्स गुरुवार को जूझते हुए नजर आये। भारत ने पहले दिन चार विकेट पर 303 रन बनाये तथा सेकर ने खुलासा किया कि पेन और तेज गेंदबाज रणनीति के मामले में एकमत नहीं थे। सेकर ने ‘एबीसी ग्रैंडस्टैंड’ से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि गेंदबाज कुछ और चाहते थे तथा टिम कुछ और। बाहर से देखने पर लग रहा था कि वहां  कुछ भ्रम की स्थिति बनी हुई थी।

सेकर ने कहा कि दिन का खेल समाप्त होने के बाद उनकी और मुख्य कोच जस्टिन लैंगर की टीम के साथ तीखी बहस हुई थी। उन्होंने कहा, ‘‘कल रात हमारी दिन के खेल को लेकर बहस हुई क्योंकि हमारे लिये यह वास्तव में निराशा से भरा दिन था। यह बहस थोड़ी तीखी थी। मैं खुश नहीं था और जस्टिन लैंगर भी। गेंदबाज इसे जानते थे। आफ स्पिनर नाथन लियोन भी आस्ट्रेलियाई रणनीति से खुश नहीं थे। उन्होंने पहले दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो मैं बहुत खुश नहीं था। हम विकेट में नमी का फायदा नहीं उठा पाये। कप्तान और गेंदबाजों ने अच्छी रणनीति अपनायी लेकिन वह कारगर साबित नहीं हुई।

बैडमिंटन स्टार मारिन और अभिनेत्री तापसी खेलेंगी प्रदर्शनी मैच



पुणे। ओलम्पिक चैंपियन और विश्व की चौथे नंबर की खिलाड़ी कैरोलिना मारिन और बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू भारत के एकमात्र एटीपी टेनिस टूर्नामेंट टाटा ओपन महाराष्ट्र में सोमवार को प्रदर्शनी मैच खेलेंगी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस टूर्नामेंट का उद्घाटन करेंगे। टूर्नामेंट की शुरुआत सोमवार से होने जा रही है और यह पांच जनवरी तक चलेगा। पहले दिन भारत के शीर्ष एकल खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन का पहले दौर में सामना अमेरिका के माइकल ममोह से सेंटर कोर्ट पर होगा। गत चैंपियन जाइल्स साइमन और शीर्ष वरीय केविन एंडरसन को पहले राउंड में बाई मिली है।

टूर्नामेंट शुरू होने से पहले मारिन और तापसी प्रदर्शनी मैच खेलेंगी जिसके बाद मुख्यमंत्री टूर्नामेंट का उद्घाटन करेंगे। मारिन टेनिस को काफी पसंद करती हैं और टेनिस स्टार राफेल नडाल की बहुत बड़ी फैन हैं। तापसी पन्नू ने हाल ही में प्रीमियर बैडभमटन लीग की टीम पुणे 7 एसेस खरीदी थी। 

अरुण जेटली बोले, विलय से बैंकिंग क्षेत्र को मिली मजबूती



नई दिल्ली। सरकार ने कहा है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय का उसका प्रयोग सफल रहा है और आश्वासन दिया कि इस प्रक्रिया में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि इसके कारण किसी भी पक्ष को कोई नुकसान नहीं होने दिया जाएगा। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को लोकसभा में एक पूरक प्रश्न के जवाब में कहा कि देश में सार्वजनिक क्षेत्र के 21 बैंक हैं और इनमें से 11 बैंक ऋण देने की स्थिति में नहीं हैं। इस स्थिति के कारण ये बैंक प्रतिस्पर्धा में खड़े नहीं हो पा रहे हैं और अपनी स्थिति में सुधार के लिए किसी तरह के कदम उठाना उनके लिए संभव नहीं थे इसलिए कमजोर बैंकों का मजबूत बैंकों में विलय का निर्णय लिया गया।

इस संबंध में उन्होंने हाल में बैंक ऑफ बड़ोदा के साथ दो अन्य बैंकों के विलय का उदाहरण दिया और कहा कि इनमें एक बैंक की स्थिति बहुत कमजोर हो गयी थी। उसका विलय दो मजबूत बैंकों के साथ किया गया है और विलय के बाद बैंक ऑफ बडोदा देश का दूसरा प्रमुख बैंक बन जाएगा। उन्होंने आश्वासन दिया कि विलय की प्रक्रिया में किसी की भी नौकरी नहीं जाएगी और ना ही किसी कर्मचारी के जोन को बदला जाएगा। वित्त मंत्री बैंकों की गैर निष्पादित राशि बढने की वजह बताते हुए कहा कि 2008 से 2014 के बीच दी गई ऋण की बहुत बड़ी राशि छिपाई गई थी।

इसके कारण बैंकों में एनपीए ढाई लाख करोड रुपए से बढकर साढे आठ लाख करोड़ रुपए पहुंचा है। विरासत में जो स्थिति मिली थी उसके कारण बैंकों की सेहत बहुत खराब हुई लेकिन धीरे धीरे उसमें सुधार की प्रक्रिया शुरू की गई आज बैंकिंग क्षेत्र में सुधार देखने को मिल रहा है।

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन 181 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ सेंसेक्स



मुंबई। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन सुबह गिरावट के साथ लाल निशान पर खुले शेयर बाजार में कारोबार की समाप्ति पर बढ़त देखने को मिली और ये हरे निशान पर बंद हुआ। बढ़त के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 181.39 अंक यानि 0.51 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,695.10 के स्तर पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी में कारोबार की समाप्ति पर बढ़त देखने को मिली और ये 55.10 अंक यानि 0.52 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,727.35 के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान शेयर बाजार मामूली घटत-बढ़त के साथ खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये गिरावट के साथ लाल निशान पर बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 22.01 अंक यानि 0.061 प्रतिशत की बढ़त के साथ 35,913.53 अंक के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 377.81 अंक यानि 1.05 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,513.71 के स्तर पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 4.60 अंक यानि 0.043 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,787.90 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 120.25 अंक यानि 1.11 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,672.25 के स्तर पर बंद हुआ।     
प्रेस24 न्यूज़ – Press24 News, KNMN

 

Source link

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: