03 जनवरी : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

प्रेस24 न्यूज़ – Press24 News, KNMNशिवसेना का PM मोदी पर तीखा हमला, कहा-अगर BJP सरकार के शासन में नहीं तो कब बनेगा राम मंदिर

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए शिवसेना ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसे इस बात पर ताज्जुब है कि अगर भाजपा के नेतृत्व वाली वर्तमान सरकार के कार्यकाल में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण नहीं होगा तो कब होगा।

पार्टी ने कहा कि अगर राम मंदिर का निर्माण 2019 चुनावों से पहले नहीं हुआ तो यह देश के लोगों को धोखा देने जैसा होगा जिसके लिए भाजपा एवं आरएसएस को उनसे माफी मांगनी होगी। केंद्र एवं महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सहयोगी शिवसेना ने हालिया साक्षात्कार में मोदी की टिप्पणी के लिए उनपर हमला बोला है।

मोदी ने कहा था कि मंदिर निर्माण पर सरकार कोई भी कदम न्यायिक प्रक्रिया खत्म होने के बाद ही उठाएगी। इस साक्षात्कार को कई टीवी चैनलों ने प्रसारित किया था। शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा, वह (मोदी) राम के नाम पर सत्ता में आए थे हालांकि उनके मुताबिक भगवान राम कानून से बड़े नहीं हैं।

अब सवाल यह है कि अगर बहुमत वाली सरकार में मंदिर का निर्माण नहीं होगा तो कब बनेगा। संपादकीय में कहा गया कि मोदी सरकार ने गुजरात में सरदार वल्लभभाई पटेल की भव्य प्रतिमा बनाई है लेकिन राम मंदिर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार वाला साहस नहीं दिखाया। साथ ही कहा कि यह इतिहास के पन्नों में दर्ज होगा।

इसमें बताया गया कि राम मंदिर के लिए आंदोलन 1991-92 में शुरू हुआ था और सैकड़ों ‘कारसेवकों’ ने अपनी जान गंवाई थी। इसमें पूछा गया, किसने यह नरसंहार किया और क्यों? एक ओर सैकड़ो हिदू कारसेवक मारे गए साथ ही मुंबई बम धमाकों में दोनों पक्ष (हिदू एवं मुस्लिम समुदाय) के सैकड़ों लोग मारे गए। अगर फैसला उच्चतम न्यायालय को ही करना था तो यह नरसंहार एवं खूनखराबा क्यों?

उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने आगे पूछा कि क्या भाजपा एवं आरएसएस इन हत्याओं एवं खूनखराबे की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार है। संपादकीय में कहा गया, सिखों के नरसंहार (1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद) के लिए जिस तरह से कांग्रेस को माफी मांगनी पड़ी उसी प्रकार हमें भी उन लोगों की भावनाओं को समझना होगा जो हिंदुओं के नरसंहार के लिए (भाजपा से) माफी की मांग करते हैं।

मिशन 2019 की शुरुआत, मोदी आज जालंधर और गुरदासपुर में करेंगे रैली



जालंधर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पंजाब के जालंधर में भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 106वें अधिवेशन का उद्घाटन करेंगे और इसके पश्चात गुरदासपुर के पुड्डा मैदान में विशाल जनसभा को संबोधित करेंगे। भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 106वें वार्षिक अधिवेशन का आयोजन तीन जनवरी से सात जनवरी तक पंजाब के जालंधर स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में होगा।

इस अवसर पर मोदी देश-विदेश से यहां पहुंचे करीब तीन हजार वैज्ञानिकों, शोधार्थियों एवं विद्यार्थियों को भी संबोधित करेंगे। भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत संचालित संस्था भारतीय विज्ञान कांग्रेस एसोसिएशन (आईएससीए) द्बारा एलपीयू में आयोजित की जा रही भारतीय विज्ञान कांग्रेस-2019 का विषय है विज्ञान एवं तकनीकी के क्षेत्र में भारत का भविष्य।

इस आयोजन में जर्मनी, हंगरी, इंगलैंड व अन्य पड़ोसी देशों के छह नोबेल पुरस्कार विजेता अपने-अपने शोध पत्र पेश करेंगे। नोबेल पुरस्कार विजेताओं के अलावा केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन, केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी इस कार्यक्रम में विशेष रूप से भाग ले रही हैं।

पांच दिन तक चलने वाले इस कांग्रेस में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से जुड़े 100 से अधिक सम्मेलन आयोजित किए जहां डीआरडीओ, इसरो, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, एम्स, यूजीसी, एआईसीटीई के अधिकारी हिस्सा लेंगे. इसमें ब्रिटेन, अमेरिका और भारत के कई प्रमुख विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

मोदी दोपहर में गुरदासपुर के पुड्डा मैदान में जनसभा को संबोधित करेंगे। इस रैली को भाजपा के मिशन 2019 की शुरुआत माना जा रहा है। दरअसल, लोकसभा चुनाव के एलान से पहले मोदी लगभग 100 रैलियों को संबोधित करेंगे। वह इन सभी सभाओं में केन्द्र सरकार की उपलब्धियों को बताएंगें। 

पाकिस्तान से अच्छे संबंध चाहते हैं लेकिन वह दुश्मनों को पनाह देता है: ट्रम्प



वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि वह पाकिस्तान के साथ ‘अच्छे संबंध’ चाहते हैं। पाकिस्तान के साथ अमेरिका के तनावपूर्ण संबंध को लेकर 2019 में अपने पहले बयान में ट्रंप ने बुधवार को कहा कि वह पाकिस्तान के साथ ‘अच्छे संबंध’ चाहते हैं लेकिन वह ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि वह देश अपने यहां दुश्मनों को पनाह देता है। 

गौरतलब है कि कुछ ही महीने पहले ट्रम्प ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 1.3 अरब अमेरिकी डॉलर की सहायता राशि को बंद कर दिया था। हालांकि, ट्रम्प ने बुधवार को बैठक में अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों को बताया कि प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान की नयी सरकार के साथ ’’बहुत जल्द’’ एक बैठक होगी।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उनके प्रशासन ने युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में तालिबान के साथ शांति वार्ता की पहल की है। ट्रम्प ने अपने मंत्रिमंडलीय सहयोगियों को बताया कि उन्होंने पाकिस्तान को मिलने वाली 1.3 अरब अमेरिकी डॉलर की सहायता राशि को बंद कर दिया है क्योंकि ‘‘यह दक्षिण एशियाई देश दुश्मनों को पनाह देता है। ट्रम्प ने कहा, ‘‘हम पाकिस्तान के साथ अच्छा रिश्ता रखना चाहते हैं, लेकिन वे अपने यहां दुश्मनों को पनाह देते हैं। वे दुश्मनों की देख-भाल करते हैं। हम ऐसा नहीं कर सकते। ट्रम्प ने पाकिस्तान पर अमेरिका का साथ नहीं देने का भी आरोप लगाया।

उन्होंने हालांकि पाकिस्तान के नए नेतृत्व के साथ मुलाकात को लेकर उत्सुकता जतायी। इससे पहले, राष्ट्रपति ट्रम्प के करीबी माने जाने वाले दक्षिण कैरोलिना के सीनेटर भलडसे ग्राहम ने सीएनएन से एक साक्षात्कार में कहा था कि यदि पाकिस्तान तालिबान को वार्ता की मेज तक लाने में अमेरिका की मदद करता है, तो अमेरिका आतंकवाद और आईएस से मुकाबला करने पर ध्यान केंद्रित कर सकेगा।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने पिछले साल सितंबर में इस्लामाबाद में प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात की थी और क्षेत्रीय शांति तथा स्थिरता को खतरा पैदा करने वाले आतंकवादियों के खिलाफ ’’निरंतर और निर्णायक कदम’’ उठाने के लिए दबाव डाला था। पिछले एक साल से ट्रम्प लगातार पाकिस्तान पर निशाना साधते रहे हैं।

चंद्रमा की दूसरी ओर की सतह पर पहला रोवर उतारकर चीन ने रचा इतिहास



बीजिंग। एक चीनी चंद्र रोवर ने चंद्रमा की दूसरी ओर की सतह पर उतरने में बृहस्पतिवार को सफलता हासिल कर ली और इसके साथ ही वह रोवर पृथ्वी से चंद्रमा की विमुख फलक पर पहुंचने वाला विश्व का पहला यान बन गया है। वैश्विक स्तर पर इस तरह के पहले प्रक्षेपण की सफलता से अंतरिक्ष महाशक्ति बनने की चीन की महत्वाकांक्षाओं को काफी बल मिला है।

चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन (सीएनएसए) ने घोषणा की कि यान चांग ई 4 ने चंद्रमा की दूसरी ओर की सतह को छुआ और तस्वीरें भेजीं। लैंडर-रोवर यान चंद्रमा के दूसरी तरफ की सतह पर 177.6 डिग्री पूर्वी देशांतर और 45.5 डिग्री दक्षिणी देशांतर पर पूर्व निर्धारित लैंडिग क्षेत्र में स्थानीय समयानुसार सुबह 10 बजकर 26 मिनट पर पहुंचा। चांग ई-4 का प्रक्षेपण शिचांग के प्रक्षेपण केंद्र से आठ दिसंबर को लॉन्ग मार्च 3बी रॉकेट के जरिए किया गया था।

यान दक्षिण ध्रुव ऐटकेन बेसिन में वोन कारमन क्रेटर में उतरा और उसके लैंडर ने मॉनिटर कैमरा से ली गई लैंडिग स्थल की एक तस्वीर भेजी। यह चंद्रमा के विमुख फलक पर ली गई विश्व की पहली तस्वीर है। यह तस्वीर सीएनएसए ने प्रकाशित की है।

सरकारी संवाद समिति शिहुआ ने कहा कि चांग ई-4 मिशन चंद्रमा के रहस्यमयी पक्ष का पता लगाने में अहम भूमिका निभाएगा। चंद्र अभियान चांग ई-4 का नाम चीनी पौराणिक कथाओं की चंद्रमा देवी के नाम पर रखा गया है। गौरतलब हैं कि चंद्रमा का आगे वाला हिस्सा हमेशा धरती के सम्मुख होता है और वहा कई समतल क्षेत्र हैं।

इस पर उतरना आसान होता है, लेकिन इसकी दूसरी ओर की सतह का क्षेत्र पहाड़ी और काफी ऊबड़-खाबड़ है। 1959 में पहली बार सोवियत संघ ने चंद्रमा की दूसरी तरफ की सतह की पहली तस्वीर ली थी, लेकिन अभी तक कोई भी चंद्र लैंडर या रोवर चंद्रमा की विमुख सतह पर नहीं उतर सका था।

खुद को मिली सफलता से अभिभूत नहीं हूं – रणवीर सिंह



मुंबई। रणवीर सिंह के लिये वर्ष 2018 व्यक्तिगत और पेशवर दोनों रूप में बेहद खास रहा है लेकिन अभिनेता का कहना है कि वह खुद को मिली सफलता से अभिभूत हुए बिना सभी का आशीर्वाद लेकर अपने रास्ते तलाश कर रहे हैं। तेजतर्रार व्यक्तित्व वाले अभिनेता अपनी सह अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के साथ शादी और ‘पद्मावत‘ और ‘सिंबा’’ की कामयाबी के लिये पूरे साल सुर्खियों में रहे। हालांकि रणवीर इस बात से वाकिफ हैं कि यह किस तरह एक व्यक्ति के दृष्टिकोण को प्रभावित कर सकता है।

रणवीर ने कहा जब आपके आसपास ऐसा होता है तो दो संभावनाएं होती हैं। या तो आप इसे मान लेते हैं या फिर इससे सजग हो जाते हैं। जब मैं इससे सजग होता हूं तो अपने प्रचार में यकीन नहीं करता। मेरे अनुभव मुझे एक दयालु व्यक्ति बनाए रखते हैं। अभिनेता का कहना है कि वह अपने संघर्ष के दिनों को याद रखते हुए खुद को जमीन से जोड़े रखते हैं।

रणवीर ने बताया, मैंने साढ़े तीन साल तक संघर्ष किया, तभी आज मुझे यह मौके मिले हैं, मैं उनकी कीमत समझता हूं। मैं अपना रास्ता कभी नहीं भटका क्योंकि मुझे अभी भी वह वक्त याद है जब मेरे पास यह सब नहीं था। रणवीर ने कहा, ’’मैंने बीच का रास्ता चुना है। न तो अपनी कामयाबी में बहुत ज्यादा खो जाना अच्छा है और न ही नाकामियों में मायूस होना। जब मुझे कामयाबी मिलती है तो खुशी होती है। आपको ऐसा जरूर करना चाहिए। लेकिन फिर फौरन अपने मौजूदा समय में खुद को ढाल लेना चाहिए।

अपनी फिल्मों में वल्गर सीन नहीं रखेंगे रोहित शेट्टी



मुंबई। बॉलीवुड के इंटरटेनर नंबर वन निर्देशक रोहित शेट्टी का कहना है कि वह अपनी फिल्मों में कभी वल्गर सीन नहीं रखेंगे। रोहित निर्देशित फिल्म सिंबा बॉक्स ऑफिस पर हिट साबित हुयी है। सिंबा ने बॉक्स ऑफिस पर 100 करोड़ से अधिक की कमाई कर ली है। रोहित ने कहा कि एक निर्देशक होने के नाते जब मैं कोई फिल्म बनाता हूं तो अपने दर्शकों को अपने दिमाग में हमेशा रखता हूं।

रोहित ने कहा,‘‘वह कभी भी अपनी फिल्मों में सेक्स सीन, किसिंग सीन और बिकीनी सीन नहीं रखेंगे।’’ रोहित ने कहा कि एक डायरेक्टर होने के नाते जब मैं कोई फिल्म बनाता हूं तो अपने दर्शकों को अपने दिमाग में हमेशा रखता हूं। दर्शकों के हर समूह को खुश करना पॉसिबल नहीं है, लेकिन हाल ही में सामने आए एक सर्वे के मुताबिक टीवी पर मेरी फिल्मों को सबसे ज्यादा देखा जाता है, क्योंकि मेरी फिल्में फैमिली ऑडिएंस कैटेगरी में आती हैं। 

चौथा टेस्ट: पुजारा ने लगाया तीसरा शतक, इस पूर्व भारतीय क्रिकेटर का तोडा रिकॉर्ड 



सिडनी। भरोसेमंद चेतेश्वर पुजारा ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे टेस्ट के पहले दिन गुरूवार को यहां जबरदस्त बल्लेबाजी करते हुए नाबाद 130 रन की पारी खेली जो उनके करियर का 18वां टेस्ट शतक है, इसी के साथ उन्होंने पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण को पीछे छोड़ दिया है।

पुजारा ने भारत की पहली पारी में सुबह दूसरे ओवर से खेलना शुरू किया और 130 रन बनाकर मैदान से नाबाद लौटे। उन्होंने मिशेल स्टार्क की गेंद पर चौका लगाकर अपने 100 रन पूरे किये जो मौजूदा सीरीज़ में उनका तीसरा शतक है। इससे उन्होंने पूर्व मौजूदा सीरीज़ के एडिलेड में खेले गये पहले टेस्ट में 123 रन और मेलबोर्न में तीसरे टेस्ट में 106 रन की शतकीय पारियां खेली थीं। 30 वर्षीय पुजारा के करियर के 68वें टेस्ट का यह कुल 18वां शतक भी है। मौजूदा सीरीज़ में उनके अब 428 रन हो गए हैं जिसके साथ वह इस सीरीज़ में शीर्ष रन स्कोरर भी बन गए हैं।

सिडनी में गुरूवार को पुजारा का शतक आस्ट्रेलिया के खिलाफ उनका पांचवां टेस्ट शतक भी है। साथ ही यह पहला मौका है जब पुजारा ने विदेश में किसी टेस्ट दौरे में इतने शतक बनाये हैं। भारतीय बल्लेबाज़ ने इसी के साथ पूर्व बल्लेबाज़ वीवीएस लक्ष्मण को करियर में 17 टेस्ट शतकों के मामले में भी पीछे छोड़ दिया है। वह उन एलीट बल्लेबाजों की सूची में भी शामिल हो गये हैं जिन्होंने आस्ट्रेलिया की जमीन पर किसी एक सीरीज़ में 1000 से अधिक गेंदें खेली हैं।

आचरेकर का हुआ अंतिम संस्कार, तेंदुलकर भी मौजूद रहे



मुंबई। जाने माने क्रिकेट कोच रमाकांत आचरेकर का गुरुवार को यहां अंतिम संस्कार किया गया और इस दौरान उनके शिष्य महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी मौजूद थे। तेंदुलकर के बचपन के कोच आचरेकर का आयु संबंधी बीमारियों के कारण बुधवार को मध्य मुंबई के दादर में शिवाजी पार्क में उनके निवास पर निधन हो गया था। वह 87 बरस के थे।

आचरेकर के पार्थिव शरीर को शिवाजी पार्क में रखा गया था जहां वह युवा क्रिकेटरों को कोचिग देते थे। इसके बाद समीप के शमशान गृह में उनका अंतिम संस्कार किया गया। जब आचरेकर के शरीर को मैदान से बाहर ले जाया गया जो वहां अभ्यास करने वाले युवा बच्चों ने इस कोच के सम्मान में ‘अमर रहे’ के नारे लगाए। तेंदुलकर के अलावा विनोद कांबली, बलविंदर सिंह संधू और चंद्रकांत पंडित जैसे आचरेकर के अन्य शिष्यों ने भी शवयात्रा में हिस्सा लिया।

इससे पहले आचरेकर के पार्थिव शरीर को उनके निवास पर भी रखा गया जिससे कि लोग द्रोणाचार्य और पद्म श्री पुरस्कार विजेता इस कोच के अंतिम दर्शन कर सकें। अतुल रानाडे, अमोल मजूमदार, रमेश पोवार, पारस म्हामब्रे, रणजी कोच विनायक सावंत, नीलेश कुलकर्णी और विनोद राघवन जैसे मुंबई के क्रिकेटर आचरेकर के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे।

राजस्थान के पूर्व कोच प्रदीप सुंदरम, मुंबई क्रिकेट संघ के पदाधिकारियों और अनुभवी क्रिकेट प्रशासक रत्नाकर शेट्टी भी आचरेकर को विदाई देने पहुंचे। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे, विधायक और भाजपा नेता आशीष सेलार, मेयर विश्वनाथ महादेश्वर ने भी इस प्रतिष्ठित कोच को श्रद्धांजलि दी।

HDFC एमएफ बनी देश की सबसे बड़ी संपत्ति प्रबंधन कंपनी, ICICI प्रूडेंशियल को पीछे छोड़ा



नई दिल्ली। एचडीएफसी म्यूचुअल फंड दो साल के अंतराल के बाद देश की सबसे बड़ी संपत्ति प्रबंधन कंपनी (एएमसी) बन गई है। एचडीएफसी म्यूचुअल फंड ने आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड (एमएफ) को पीछे छोड़ दिया है।एसोसिएशन आफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों के अनुसार दिसंबर अंत तक एचडीएफसी एमएफ के प्रबंधन के तहत 3.35 लाख करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां थीं। वहीं आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एमएफ के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियों (एयूएम) का आंकड़ा 3.08 लाख करोड़ रुपए था।

एचडीएफसी एमएफ के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां अक्टूबर से दिसंबर की अवधि के दौरान इससे पिछली तिमाही की तुलना में नौ प्रतिशत बढ़ीं। वहीं इस दौरान आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एमएफ का एयूएम 0.6 प्रतिशत कम हुआ।एचडीएफसी एमएम अक्टूबर, 2011 से सबसे बड़ी संपत्ति प्रबंधक रही है। मार्च, 2016 में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एमएफ उसको पछाड़कर शीर्ष स्थान पर पहुंच गई थी।

एसबीआई एमएफ 2.64 लाख करोड़ रुपए के आंकड़े के साथ तीसरे, आदित्य बिड़ला (2.42 लाख करोड़ रुपए) के साथ चौथे और रिलायंस एमएफ 2.36 लाख करोड़ रुपए के आंकड़े के साथ पांचवें स्थान पर है। एम्फी के मुताबिक दिसंबर तिमाही अंत तक देश के म्यूचुअल फंड उद्योग के प्रबंधन के तहत कुल 23.61 लाख करोड़ रुपए की परिसंपत्तियां थीं।

378 अंक की गिरावट के साथ 35,514 के स्तर पर बंद हुआ सेंसेक्स



मुंबई। जब आज सुबह शेयर बाजार खुला तो उसमें मामूली घटत- बढ़त देखने को मिलती, घटत-बढ़त के इस माहौल में जहां सेंसेक्स हरे निशान पर खुला वहीं निफ्टी ने कारोबार की शुरूआत लाल निशान पर की। कारोबार की समाप्ति पर ये घटत-बढ़त गिरावट में बदल गई। गिरावट के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 377.81 अंक यानि 1.05 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,513.71 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर गिरावट हावी रही और ये 120.25 अंक यानि 1.11 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,672.25 के स्तर पर बंद हुआ। 

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान शेयर बाजार गिरावट के साथ खुला और गिरावट के साथ ही लाल निशान पर बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 113.41 अंक यानि 0.31 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,141.16 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 363.05 अंक यानि 1.00 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,891.52 के स्तर पर बंद हुआ। 

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 43.65 अंक यानि 0.40 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,866.45 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 117.60 अंक यानि 1.08 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,792.50 के स्तर पर बंद हुआ।    
प्रेस24 न्यूज़ – Press24 News, KNMN

 

Source link

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author

Comments

Loading...
%d bloggers like this: