तेज़ हवाओं का कहर, अब तक 40 की मौत, ‘ख़तरा बरकरार’

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Loading…

Image caption

राहत आयुक्त संजय कुमार का कहना है कि कई जगह कच्चे मकान गिर गए हैं. (फ़ाइल तस्वीर)

राजधानी दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में रविवार शाम चली तेज़ हवाओं की वजह से अब तक कम से कम 40 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है.उत्तर प्रदेश में सबसे ज़्यादा 18 लोग मारे गए हैं जबकि आंध्र प्रदेश में 12 लोगों की मौत हुई है. दिल्ली में पेड़ गिरने से एक महिला की मौत हुई है. प्रेस24 संवाददाताअमिताभ भट्टासाली के मुताबिक पश्चिम बंगाल में पांच बच्चों समेत नौ लोगों की मौत हुई है. दिल्ली और आसपास के इलाकों में 109 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ़्तार से हवाएं चलीं. हवाओं के असर से सैंकड़ों पेड़ और बिजली के खंबे उखड़ गए. इससे सड़क यातायात प्रभावित हुआ. तेज़ हवाओं की वजह से दिल्ली मेट्रो सेवा और हवाई सेवा पर भी असर हुआ. कई फ्लाइटें डाइवर्ट करनी पड़ीं. उत्तर प्रदेश के राहत आयुक्त संजय कुमार ने प्रेस24 संवाददाता दिलनवाज़ पाशा को बताया, “अभी तक 18 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है. तीस से ज़्यादा लोग घायल हैं. हताहतों की संख्या बढ़ सकती है.”आंध्र प्रदेश के राहत आयुक्त के कार्यालय ने प्रेस24 को बताया, “प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में तेज़ हवाओं और बिजली गिरने की वजह से अब तक 12 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है. ये संख्या बढ़ भी सकती है.”

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

दिल्ली की राहत आयुक्त मनीषा सक्सेना ने प्रेस24 को बताया, “तेज़ हवाओं की वजह से पेड़ गिरने से पांडव नगर इलाके में एक महिला की मौत हुई है.”संजय कुमार कहते हैं, “तूफ़ान का ख़तरा अभी टला नहीं हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ज़िलों को चपेट में लेने के बाद अब ये पूर्वी उत्तर प्रदेश की ओर बढ़ा है जहां दस से अधिक ज़िलों में रात एक बजे के करीब तेज़ हवाएं चल सकती हैं और भारी बारिश हो सकती हैं.”रविवार को आए तूफ़ान से पहले मौसम विभाग ने सटीक अलर्ट जारी किया था. मौसम विभाग की दी हुई चेतावनी में रविवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली क्षेत्र में तेज़ हवाएं चलने और बारिश होने की चेतावनी दी गई थी और लोगों से अपने घरों के भीतर या सुरक्षित स्थानों पर रहने के लिए कहा गया था.संजय कुमार कहते हैं, “मौसम विभाग से चेतावनी मिलने के बाद हमने सभी ज़िलों में अलर्ट जारी किया था. सभी ज़िलाधिकारियों को स्थिति पर नज़र रखने और लोगों को सचेत करने के लिए कहा गया था.”
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

आगरा में आंधी-तूफ़ान का कहरबावजूद इसके उत्तर प्रदेश से अभी तक कुल 18 लोगों के मारे जाने की ख़बर आ चुकी है.संजय कुमार बताते हैं कि इनमें से कई लोग अपने कच्चे घर गिरने की वजह से मारे गए हैं.वो कहते हैं, “अभी भी बहुत से लोग कच्चे घरों में रहते हैं जो पहले के बने हुए हैं. चेतावनी मिलने के बावजूद ऐसे घरों में रह रहे लोग ख़तरे में हैं.”राहत विभाग फिलहाल तूफ़ान से हुए नुक़सान का जायज़ा ले रहा है और लोगों को सचेत कर रहा है.इससे पहले 02 मई यानी बुधवार को आए तेज़ तूफ़ान में उत्तर प्रदेश और राजस्थान में 100 से अधिक लोग मारे गए थे. उत्तर प्रदेश में कुल 70 लोगों की मौत हुई थी जिनमें 43 आगरा से थे. इस बार आगरा का पड़ोसी ज़िला कासगंज सबसे ज़्यादा प्रभावित है जहां अब तक पांच लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है.राहत आयुक्त संजय कुमार बताते हैं, “तूफ़ान पूर्वी यूपी की ओर बढ़ा है जहां महाराजगंज, गाजीपुर, बनारस, भदोही समेत दस ज़िलों में तेज़ हवाएं चल सकती हैं.”(प्रेस24 हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(ये खबर सिंडिकेट फीड से सीधे ऑटो-पब्लिश की गई है.प्रेस24 न्यूज़ ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.आधिक जानकारी के लिए सोर्से लिंक पर जाए।)

सोर्से लिंक

قالب وردپرس

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

टिप्पणियाँ

Loading...