उत्तर कोरिया का नया मिसाइल पहुंच सकता है वाशिंगटन तक: द कोरिया

0


सोल। उत्तर कोरिया द्वारा अपने सबसे ताकतवर मिसाइल का परीक्षण किए जाने के दो दिन बाद देश की शानदार तकनीकी उपलब्धि की तस्वीर साफ साफ सामने आ गई है और इसके साथ ही यह सवाल उठ रहा है कि क्या इससे अमेरिका को खतरा हो सकता है। हालांकि इस बारे में कई सवाल बाकी हैं, लेकिन सरकार ने इस बात से सहमित जताई है कि ताकतवर ह्वासोंग-15 आईसीबीएम कोरिया के लिए एक मील का पत्थर है, और यह उत्तर कोरिया को परमाणु आधारित लंबी दूरी की मिसाइलों के एक व्यवहार्य शस्त्रागार के लक्ष्य के बहुत करीब पहुंचा देगा।

केरल: लक्षद्वीप की ओर बढ़ा चक्रवाती तूफान ‘ओखी ‘

दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को सांसदों को पेश एक रिपोर्ट में बताया कि उत्तर कोरिया ने बुधवार को द्विस्तरीय तरल इकधन वाले मिसाइल का परीक्षण किया था । यह मिसाइल 13 हजार किलोमीटर तक मार करने की क्षमता रखता है और इस वजह से अमेरिका इसकी जद में आ सकता है।मंत्रालय ने बताया कि यह मिसाइल उत्तर कोरिया के पहले के आईसीबीएम, द ह्वासोंग-14 से बडा है और यह बडा आयुध ले जाने में सक्षम है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ह्वासोंग-15 के परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया के उस दावे की पुष्टि हो गई है कि नया मिसाइल बहुत बडे और भारी परमाणु हथियार ले जा सकता है। अंतरराष्ट्रीय रणनीतिक अध्ययन संस्थान के एक विश्लेषक माइकल एलीमैन ने बताया कि ऐसा लगता है कि ह्वासोंग-15, एक हजार किलोग्राम भार अमेरिका में किसी स्थान पर गिराने में सक्षम है।

महंगाई पर जो आवाज उठाएगा, जातिवादी और भ्रष्टाचारी कहलाएगा:  लालू

रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को सांसदों को बताया कि यह अंतरद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल लक्ष्य पर सटीक हमला कर सकता है,या नहीं इस की समीक्षा किये जाने की जरूरत है। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने मिसाइल पर अपने देश के मूल्यांकन से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कल रात फोन पर अवगत करवाया। राष्ट्रपति के कार्यालय ने शुक्रवार को बताया कि दोनों नेताओं ने उत्तर कोरिया की परमाणु महात्वाकांक्षा को हतोत्साहित करने के लिए उस पर प्रतिबंध लगाने और दबाव बनाने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।

 









प्रेस२४ न्यूज़ मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड – कोटगाड़ी न्यूज़ & मीडिया नेटवर्क

Source link

قالب وردپرس

शायद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें