पवनमुक्तासन से होंगे इतने फायदे, आप रह जायेंगे हैरान

0


लाइफस्टाइल डेस्क। पवनमुक्त का अर्थ है पवन या हवा को मुक्त करना। इस आसन को करने से पेट की वायु निकालने में मदद करता है, इस कारणवश इस आसन का नाम पवनमुक्तासन है। 

ये बाते जो लड़कियां अपने बॉयफ्रंड से नहीं कहती….

विधि

पवनमुक्तासन योग को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल जमीन पर लेट जाएं। इसके बाद दाएं पैर को घुटने से मोड़ते हुए घुटने को दोनों हाथों से पकड़कर छाती की ओर लाएं। इसके बाद सिर को जमीन से ऊपर उठाने की कोशिश करते हुए अपनी नाक से घुटने का स्‍पर्श करें। इस स्थिति में जब तक हो सके बने रहे। थोड़ी देर बाद वापस पहले वाली स्थिति में आ जाएं। यही क्रिया दूसरे पैर से भी करें। इसके बाद इसे दोनों पैरों से एक साथ करें। पवनमुक्तासन योग दिन में 5 से 10 बार रोजाना करने से पेट की समस्‍या से पूरी तरह से मुक्ति मिल जाती है। 

अपने साथ बात करने की एक बेहतरीन जगह, जो करेगी आपको मोटिवेट

इन हरकतों से जाने की सामने वाला झूठा है या सच्चा

लाभ

• पीठ व पेट कि मासपेशियों को मज़बूत बनाता है|

• हाथों व पैरों की मासपेशियों को मज़बूत बनाता है|

• पेट एवं दूसरे इन्द्रियों की मालिश करता है| 

• पेट में से वायु को निकलता है और पाचन क्रिया में मदद करता है|

• रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है और पीठ व कूल्हे के जोड़ के हिस्से को तनाव मुक्त करता है|

क्या आप जानते है बिल्लियों के मुकाबले ज्यादा बुद्धिमान होते हैं कुत्ते?

सावधानी

• अगर किसी व्यक्ति के घुटनों में दर्द हो तो वो ये आसन बिल्कुल ना करें।

• खाना खाने के तुरंत बाद इस आसन को नहीं करना चाहिए।

• अगर आपकी कमर या गर्दन में दर्द रहता हो तो इस आसन को करने से बचें।

sourse google 

 









प्रेस२४ न्यूज़ मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड – कोटगाड़ी न्यूज़ & मीडिया नेटवर्क

Source link

قالب وردپرس

शायद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें