शिवपाल यादव भी चाहते हैं अयोध्या में बने राम मंदिर, मुलायम पर है कार सेवकों पर गोलियां चलाने का आरोप

0


नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव पर जहां अयोध्या में विवादित स्थल को नुकसान पहुंचाने गए कार सेवकों पर गोलियां चलवाने के आरोप हैं, वहीं अब उनके छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव ने उसी विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने की बात कही है. सपा नेता शिवपाल सिंह यादव ने गुरुवार को कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनना ही चाहिए. हालांकि उन्होंने अपने बयान में यह भी जोड़ा की राम मंदिर का निर्माण आपसी सहमति और बातचीत से हो. अगर ऐसा नहीं होता है तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुरूप कदम उठाए जाने चाहिए.

इसी दौरान शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि बीजेपी को चुनावों के दौरान अयोध्या का राम मंदिर याद आता है. बीजेपी वाले सिर्फ वोट के लिए राम मंदिर की बात करते हैं. गौर करने वाली बात यह है कि हाल ही में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने भी कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर जल्द ही बनेगा.

ये भी पढ़ें: गुजरात में बीजेपी के लिए वोट बटोरने के मकसद से राम मंदिर का मुद्दा उठा रहे हैं भागवत : कांग्रेस

20 नवंबर को सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने राम-कृष्‍ण मुद्दा छेड़ते हुए कहा था कि भारत में भले ही भगवान श्रीराम के अनुयायी बहुत हैं, लेकिन श्रीकृष्ण के अनुयायी भी उनसे कम नहीं हैं. राम सिर्फ उत्तर भारत में ही पूजे जाते हैं, जबकि भगवान श्री कृष्ण को उत्तर से दक्षिण भारत तक पूजा जाता है. 

मुलायम सिंह ने कहा, ”आप दक्षिण भारत में जाइए. जितना सम्‍मान कृष्‍ण का वहां है, उतना कहीं नहीं. ठीक है हमारे आदर्श हैं राम जी, लेकिन स्‍वीकार करना पड़ेगा कि हिंदुस्‍तान के बाहर कृष्‍ण का नाम है और हिंदुस्‍तान में उत्‍तर भारत में राम को बहुत आदर्श माना जाता है.”

ये भी पढ़ें: देश में अल्पसंख्यक ‘थोड़ा असहज’ महसूस कर रहे हैं : पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने रविवार को इंदिरापुरम के वैशाली क्षेत्र में एक कार्यक्रम में यह बात कही. यादव युवक-युवती परिचय सम्मेलन में शिरकत करने पहुंचे मुलायम ने कहा कि वह इटावा के सैफई में श्रीकृष्ण की 50 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित होने जा रही है. मूर्ति के लिए सैफई महोत्सव समिति ने पैसा जुटाया है. इसी सिलसिले में उन्होंने भगवान राम और कृष्ण की चर्चा की.

मालूम हो कि मुलायम सिंह यादव के परिवार में राजनीतिक झगड़ा होने के बाद से शिवपाल सिंह यादव अलग-थलग पड़ गए हैं. वहीं पूरी पार्टी पर अखिलेश यादव का वर्चस्व हो गया है.



प्रेस२४ न्यूज़ मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड – कोटगाड़ी न्यूज़ & मीडिया नेटवर्क

Source link

शायद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें