आखिर क्यों इस शिव मंदिर में पूजा करने से डरते हैं लोग

0


धर्म डेस्क। भोलेनाथ बहुत भोले हैं और उनकी आराधना और पूजा करने से सब मनोकामनाए पूर्ण हो जाती हैं। शिव की आराधना किसी भी रूप में की जा सकती है। लेकिन आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि उत्तराखंड में एक ऎसा शिवमंदिर है जहां इस मंदिर में लोग पूजा करने से डरते हैं। यह शिवलिंग उत्तराखंड के हथिया नौला नामक स्थान पर बना हुआ है। इस शिवलिंग को लेकर एक कथा प्रचलित है कि इस गांव में कई सालों पहले एक मूर्तिकार रहता था।

नई जॉब की तलाश है तो अपनाएं ये वास्तु टिप्स 

उस मूर्तिकार का एक हाथ हादसे में कट गया था। गांव वाले उसका मजाक उड़ाते थे कि अब वह एक हाथ से मूर्तियां कैसे बनाएगा। लोगों के ताने सुन-सुनकर मूर्तिकार बहुत दुखी हो गया। एक दिन रात को वह मूर्तिकार अपने हाथ में छेनी और हथौड़ी लेकर गांव के दक्षिण दिशा में निकल गया। उस मूर्तिकार ने रात भर में ही एक बड़ी चट्टान को काटकर वहां पर मंदिर और शिवलिंग का निर्माण कर दिया। सुबह गांव के सभी लोग इस मंदिर को देखकर हैरान रह गए।

कहीं आपकी परेशानियों का कारण आपके घर का मेन गेट तो नहीं

फिर उस शिल्पकार को गांव में बहुत ढूंढा गया लेकिन वो कही नहीं मिला। गांव के लोग यह समझ गए कि यह काम उसी शिल्पकार का है जिसका वह सब मजाक उड़ाते थे। पण्डितों ने जब उस मंदिर का निरीक्षण किया तो पाया कि शिवलिंग का अरघा विपरीत दिशा में है। इस शिवलिंग के विपरीत दिशा में अरघा होने के कारण यह माना गया कि इसकी पूजा करने से कोई अनहोनी घटना घटित हो सकती है।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

READ MORE :-

जो व्यक्ति 16 वर्षों तक करता है ये व्रत, वह किसी भी जन्म में नहीं बनता निर्धन

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!

शाम ढलने के बाद इस मंदिर में रुकना है सख्त मना

 









प्रेस२४ न्यूज़ मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड – कोटगाड़ी न्यूज़ & मीडिया नेटवर्क

Source link

قالب وردپرس

शायद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें