प्रेस रिव्यू: तंदूर और जेसिका कांड के दोषी हो सकते हैं रिहा!

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Loading…

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक़ जेसिका लाल हत्याकांड के दोषी मनु शर्मा और तंदूर कांड में सजा काट रहे सुशील शर्मा को जेल से रिहाई मिल सकती है.ख़बर के मुताबिक़ सेंटेन्स रिव्यू बोर्ड इन दोनों समेत लगभग 90 क़ैदियों की रिहाई के बारे में फ़ैसला करेगा. बोर्ड की मंगलवार को बैठक हो सकती है. इस बोर्ड में एक जज, एक शीर्ष पुलिस अधिकारी, दिल्ली के गृह मंत्री और चार अन्य सरकारी अधिकारी शामिल होंगे.1999 में हुए जेसिका लाल हत्याकांड में दोषी करार दिए गए मनु शर्मा हरियाणा के पूर्व मंत्री विनोद शर्मा के बेटे हैं. वो 15 से अधिक जेल में गुज़ार चुके हैं. इसके अलावा यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुशील शर्मा भी 23 साल से जेल में हैं. बोर्ड की बैठक में ऐसे क़ैदियों की रिहाई के मामले रखे जाते हैं जो 10 साल से अधिक की सज़ा काट रहे होते हैं या जिनकी उम्र अधिक हो जाती है. शर्त ये होती है कि जेल में सज़ा काटते वक्त क़ैदी का व्यवहार बहुत अच्छा होना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

अदालत में हत्याद हिंदू के मुताबिक ओडिशा के संबलपुर ज़िले में सोमवार को एक फैमिली कोर्ट में एक व्यक्ति ने तलवार से एक महिला की हत्या कर दी. हमलावर का दावा है कि वो मृतक महिला उसकी पत्नी थी.इस हमले में महिला की मां और उनकी भतीजी भी घायल हो गई. टाउन थाना पुलिस ने इस मामले में अभियुक्त रमेश को गिरफ्तार कर लिया है.ख़बर के मुताबिक़ रमेश कुमार ऑटो रिक्शा चलाते हैं. वो तलवार लेकर कोर्ट पहुँचे. उनका एक महिला संगीता चौधरी से विवाद चल रहा था जिसकी सुनवाई कोर्ट में हो रही थी. पुलिस के अनुसार, रमेश कुमार और संगीता चौधरी चार महीने तक साथ-साथ रहे और बाद में कुछ झगड़ा होने पर अपने-अपने घर लौट गए. बाद में संगीता की मां ने अपनी बेटी का विवाह कहीं और कर दिया. इसी बात को लेकर रमेश नाराज़ था.यह मामला परिवार न्यायलय में पहुंचने पर अदालत ने दोनों पक्षों के बीच समझौता कराने के लिए सोमवार को बुलाया था. इसी दौरान रमेश तलवार लेकर अदालत पहुंचा और कथित पत्नी, उसकी मां और भतीजी पर हमला कर दिया. इससे अदालत परिसर में अफ़रातफ़री मच गई.

इमेज कॉपीरइट
Getty Images

अध्यादेश पर सवालहिंदुस्तान के मुताबिक दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा कि 12 साल से कम उम्र की लड़कियों से बलात्कार के जुर्म में दोषी को मौत की सजा का प्रावधान करने वाला अध्यादेश लाने से पहले क्या उसने वैज्ञानिक आकलन किया था? हाईकोर्ट ने एक पुरानी जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह सवाल किया. जनहित याचिका में 2013 के आपराधिक क़ानून (संशोधन) को चुनौती दी गई है. आपराधिक क़ानून (संशोधन) में बलात्कार के दोषी को न्यूनतम सात साल जेल की सज़ा और इससे कम सज़ा देने के अदालत के विवेकाधिकार के प्रावधान ख़त्म कर दिए गए थे.भारत में बच्चों को रेप के बारे में कैसे बताएं?दुनिया में बच्चियों के साथ रेप की सज़ा क्या है? (प्रेस24 हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

(ये खबर सिंडिकेट फीड से सीधे ऑटो-पब्लिश की गई है.प्रेस24 न्यूज़ ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.आधिक जानकारी के लिए सोर्से लिंक पर जाए।)

सोर्से लिंक

قالب وردپرس

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

टिप्पणियाँ

Loading...