पाकिस्तान पर और दबाब बनाने की जरूरत, जम्मू-कश्मीर में अमन के लिए नई रणनीति की दरकार: जनरल बिपिन रावत

0


नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि सेना यथास्थिति कायम रखने वाली नहीं हो सकती. उसे जम्मू कश्मीर में आतंकवाद से निपटने के लिए नयी रणनीतियां विकसित करनी होगी. इसके साथ ही सेना प्रमुख यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर में शांति कायम करने के लिए नई रणनीति अपनानी होगी. उन्होंने कहा, ‘जम्मू कश्मीर में स्थायी शांति के लिए राजनीतिक पहल और सैन्य अभियान साथ साथ चलने चाहिए’. सेना प्रमुख ने रविवार (14 जनवरी) को कहा, ‘जम्मू-कश्मीर में शांति के लिए यह जरूरी है कि राजनीतिक पहल और सैन्य अभियान एक-जूसके का हाथ थाम कर चलें. पाकिस्तान की ओर से सीमा पार आतंकवाद को रोकने के लिए सेना को और ज्यादा आक्रामक होने की जरूरत है.’

इससे पहले सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बीते 12 जनवरी को कहा था कि अगर सरकार कहे तो सेना पाकिस्तान के परमाणु झांसों को धता बताने और किसी भी अभियान के लिए सीमापार करने को तैयार है. जनरल रावत ने कहा कि हम पाकिस्तान की परमाणु हथियारों की बातों को चुनौती देंगे. उन्होंने कहा, ‘अगर हमें वाकई पाकिस्तानियों का सामना करना पड़ा और हमें ऐसा काम दिया गया तो हम यह नहीं कहेंगे कि हम सीमा पार नहीं कर सकते क्योंकि उनके पास परमाणु हथियार हैं. हमें उनकी परमाणु हथियारों की बातों को धता बताना होगा.’ सेना प्रमुख ने कहा, ‘हम प्रस्ताव के विभिन्न आयामों का अध्ययन रहे हैं.’ उनसे यहां एक संवाददाता सम्मेलन में सीमा पर हालात बिगड़ने की स्थिति में पाकिस्तान द्वारा उसके परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की संभावना पर सवाल पूछा गया था.

जनरल बिपिन रावत बोले; सरकार कहे तो सेना सीमापार जाने को तैयार

पाकिस्तान को दे रहे करारा जवाब
सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि सैन्य बल पाकिस्तान के संघर्षविराम उल्लंघनों का करारा जवाब दे रहे हैं और लक्ष्य पाकिस्तान को आतंकी समूहों के समर्थन के दुष्परिणाम महसूस कराना है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादी ‘इस्तेमाल कर फेंकने लायक सामान’ हैं और भारतीय सेना गोलीबारी की आड़ में आतंकियों की भारत में घुसपैठ कराने वाली पाकिस्तानी सेना की चौकियों को दंडित करने पर ध्यान दे रही है.

पाकिस्तानी चौकियों को तबाह करते रहेंगे
जनरल रावत ने कहा, ‘हमारा रुख पाकिस्तानी सेना को दुष्परिणाम महसूस कराना है.’ उन्होंने कहा, ‘जब तक पाकिस्तान दुष्परिणाम महसूस नहीं करता, वह आतंकियों को भेजता रहेगा जो उनके लिए उपयोग कर फेंकने लायक सामान हैं. हम आतंकियों की भारत में घुसपैठ कराने वाली पाकिस्तानी चौकियों को तबाह करते रहेंगे. जवाबी गोलीबारी में पाकिस्तान को तीन-चार गुना ज्यादा नुकसान हुआ है.’ 

जनरल बिपिन रावत ने पूछा, J&K और भारत के अलग-अलग नक्शे दिखाने से बच्चों को क्या तालीम मिल रही है?

पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को देंगे चुनौती
सेना प्रमुख ने कहा कि सेना पाकिस्तान के परमाणु हथियारों के झांसे को चुनौती देगी. उन्होंने कहा, ‘हम इसे चुनौती देंगे. अगर हमें सच में पाकिस्तानियों से टकराना हो और हमें देश कोई काम दे तो हम यह नहीं कहेंगे कि उनके पास परमाणु हथियार होने के कारण हम सीमा पार नहीं कर सकते. हमें उनके परमाणु हथियारों के झांसे को चुनौती देनी होगी.’

(इनपुट एजेंसी से भी)

प्रेस२४ न्यूज़ मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड – कोटगाड़ी न्यूज़ & मीडिया नेटवर्क

Source link

शायद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें