अक्षय तृतीया का व्रत और पूजा करने से होती है अक्षय फल की प्राप्ति

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Loading…

Press24 News – Welcomes to the land of Sun, Sand and adventuresधर्म डेस्क। वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया के नाम से जाना जाता है, इस दिन व्रत और पूजा पाठ करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। अक्षय तृतीया के दिन व्रत और पूजा-पाठ क्यों किया जाता है। इसके बारे में पुराणों में एक कथा का वर्णन मिलता है, आइए आपको बताते हैं अक्षय तृतीया की कथा के बारे में………..

धनवान बनने के लिए व्यक्ति की कुंडली में होने चाहिए ये योग

पुराणों के अनुसार, प्राचीन काल में एक धर्मदास नामक वैश्य था। उसकी सदाचार, देव और ब्राह्मणों के प्रति काफी श्रद्धा थी। इस व्रत के महात्म्य को सुनने के पश्चात उसने इस पर्व के आने पर गंगा में स्नान करके विधिपूर्वक देवी-देवताओं की पूजा की, व्रत के दिन स्वर्ण, वस्त्र तथा दिव्य वस्तुएं ब्राह्मणों को दान में दी।

धन वृद्धि के लिए दीपक जलाते समय करें इन नियमों का पालन

अनेक रोगों से ग्रस्त तथा वृद्ध होने के बावजूद भी उसने उपवास करके धर्म-कर्म और दान पुण्य किया। यही वैश्य दूसरे जन्म में कुशावती का राजा बना। कहते हैं कि अक्षय तृतीया के दिन किए गए दान व पूजन के कारण वह बहुत धनी प्रतापी बना। वह इतना धनी और प्रतापी राजा था कि त्रिदेव तक उसके दरबार में अक्षय तृतीया के दिन ब्राह्मण का वेश धारण करके उसके महायज्ञ में शामिल होते थे।

जानिए! दूध से जुड़े कुछ शकुन-अपशकुन के बारे में …

अपनी श्रद्धा और भक्ति का उसे कभी घमंड नहीं हुआ और महान वैभवशाली होने के बावजूद भी वह धर्म मार्ग से विचलित नहीं हुआ। माना जाता है कि यही राजा आगे चलकर राजा चंद्रगुप्त के रूप में पैदा हुआ।

(source-google)

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

जानिए कौन था सहस्त्रार्जुन और क्या था इसका रावण से संबंध
Press24 News – Latest Hindi News

 

(ये खबर सिंडिकेट फीड से सीधे ऑटो-पब्लिश की गई है.प्रेस24 न्यूज़ ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.आधिक जानकारी के लिए सोर्से लिंक पर जाए।)

सोर्से लिंक

قالب وردپرس

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

टिप्पणियाँ

Loading...