स्कूली छात्राओं के सवालों का राहुल ने यूँ दिया जवाब

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Loading…

इमेज कॉपीरइट
EPA

कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने मंगलवार को अपने लोकसभा क्षेत्र अमेठी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जमकर निशाने पर लिया. राहुल ने कहा कि मोदी सरकार उन्हें लोकसभा में बोलने नहीं देती है. राहुल ने कहा कि देश में जो चल रहा है उस पर वो बोलना चाहते हैं, लेकिन मोदी सरकार उन्हें बोलने नहीं दे रही. राहुल एक सरकारी स्कूल में भी गए जहां उन्होंने वहां पढ़ने वाली छात्राओं से भी बात की.

छोड़िए ट्विटर पोस्ट @RahulGandhi

समझो अब नोटबंदी का फरेबआपका पैसा निरव मोदी की जेब मोदीजी की क्या ‘माल्या’ मायानोटबंदी का आतंक दोबारा छायादेश के ATM सब फिर से खालीबैंकों की क्या हालत कर डाली#CashCrunch— Rahul Gandhi (@RahulGandhi) 17 अप्रैल 2018

पोस्ट ट्विटर समाप्त @RahulGandhi

अमेठी में राहुल का मोदी पर ये 7 प्रहार एक लड़की ने राहुल से पूछा कि सरकार इतने क़ानून बनाती है, लेकिन गांवों में ये क़ानून बिल्कुल अप्रभावी क्यों होते हैं- इस पर राहुल ने कहा- ये आप मोदी जी से पूछिए. मेरी सरकार थोड़ी ही है. जब हमारी सरकार आएगी तो हमसे पूछिएगा.
अमेठी के बारे में राहुल ने कहा- मैं अमेठी का एमपी हूँ. मेरा काम लोकसभा में क़ानून बनाने का है. मगर योगी जी का काम यूपी चलाने का है और योगी जी दूसरा काम कर रहे हैं. बिजली का काम नहीं कर रहे हैं, पानी का काम नहीं कर रहे हैं, शिक्षा का काम नहीं कर रहे हैं और क्रोध फैला रहे हैं.
मोदी सरकार मुझे लोकसभा में बोलने का मौक़ा नहीं दे रही है.
मोदी ने अच्छे दिनों की बात की थी, लेकिन क्या एटीएम बिना कैश के होना ही अच्छे दिन हैं?
यह शर्मनाक है कि लोग अपने ही पैसे निकालने के लिए क़तार में लगे हैं.
ग़लत नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था संकट में है और सरकार नीरव मोदी जैसे लोगों को पकड़ नहीं पा रही है.
आम आदमी चौतरफा संकट में घिरा हुआ है.
(प्रेस24 हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(ये खबर सिंडिकेट फीड से सीधे ऑटो-पब्लिश की गई है.प्रेस24 न्यूज़ ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.आधिक जानकारी के लिए सोर्से लिंक पर जाए।)

सोर्से लिंक

قالب وردپرس

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

टिप्पणियाँ

Loading...