खाने-पीने की वस्तुओं के दाम घटने से मार्च में थोक मुद्रास्फीति में मामूली गिरावट

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Loading…

Press24 News – Welcomes to the land of Sun, Sand and adventuresनई दिल्ली। दाल, सब्जियों के दाम घटने से थोक मूल्य आधारित मुद्रास्फीति मार्च माह में मामूली कम होकर 2.47 प्रतिशत रह गई। थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति एक महीना पहले फरवरी में 2.48 प्रतिशत और पिछले साल मार्च में 5.11 प्रतिशत रही थी।

आसियान से भारतीय कंपनियों को जोडऩे पर काम कर रही डीएचएल

सरकार द्वारा आज जारी आंकड़ों के अनुसार सब्जियों, दाल, दलहन, अंडे, मांस और मछली के सस्ते होने से करीब आठ महीने बाद खाद्य पदार्थों में अपस्फीति देखी गई है। मार्च में खाद्य पदार्थ 0.29 प्रतिशत सस्ते हुए हैं जबकि फरवरी में इनमें 0.88 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई। इसी तरह मार्च के दौरान सब्जियों के दाम 2.70 प्रतिशत, दाल 20.58 प्रतिशत और गेहूं 1.19 प्रतिशत सस्ते हुए हैं।

इस दौरान प्याज और आलू में मुद्रास्फीति क्रमश : 42.22 प्रतिशत और 43.25 प्रतिशत रही है। विनिॢमत उत्पादों की महंगाई 3.03 प्रतिशत रही है जबकि चीनी 10.48 प्रतिशत सस्ती हुई है। हालांकि, ईंधन एवं विद्युत श्रेणी में मार्च में महंगाई 4.70 प्रतिशत बढ़ी है। वहीं फरवरी में इनकी मुद्रास्फीति 3.81 प्रतिशत बढ़ी थी।

वोडाफोन फाउंडेशन ने 360 युवाओं को कौशल प्रशिक्षण दिया

इक्रा की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि कच्चा तेल एवं प्राकृतिक गैस की बढ़ती कीमतें तथा डॉलर के मुकाबले रुपये की हालिया गिरावट से अप्रैल में थोक मुद्रास्फीति बढ़ सकती है। उन्होंने कहा , ” हमारा अनुमान है कि थोक मूल्य सूचकंाक आधारित मुद्रास्फीति 2017-18 के 2.9 प्रतिशत से बढ़कर 2018-19 में 3.9 प्रतिशत पर पहुंच जाएगी।”

जनवरी के मुद्रास्फीति के आंकड़े को 2.84 प्रतिशत के प्राथमिक आकलन से संशोधित कर 3.02 प्रतिशत कर दिया गया। पिछले सप्ताह जारी आंकड़ों के अनुसार खाद्य कीमतों में नरमी के कारण मार्च में खुदरा मुद्रास्फीति पांच महीने के निचले स्तर 4.28 प्रतिशत रह गई।

113 अंक की बढ़त बनाकर बंद हुआ सेंसेक्स

चालू वित्त वर्ष की पहली मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में रिजर्व बैंक ने मुद्रास्फीति का हवाला देकर नीतिगत दरों को यथावत रखा था। रिजर्व बैंक ने खुदरा मुद्रास्फीति के पूर्वानुमान को घटाकर अप्रैल – सितंबर छमाही के लिए 4.7-5.1 प्रतिशत तथा अक्तूबर – मार्च छमाही के लिए 4.4 प्रतिशत कर दिया था।- एजेंसी

ओला एक साल में जोड़ेगी 10 हजार इलेक्ट्रिक वाहन

चौथी औद्योगिक क्रांति में बड़ी भूमिका निभा सकता है भारत: विश्व आर्थिक मंच

भारत में यात्री कारों पर कर की दर साइज से नहीं उत्सर्जन के हिसाब से हो
Press24 News – Latest Hindi News

 

(ये खबर सिंडिकेट फीड से सीधे ऑटो-पब्लिश की गई है.प्रेस24 न्यूज़ ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.आधिक जानकारी के लिए सोर्से लिंक पर जाए।)

सोर्से लिंक

قالب وردپرس

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

टिप्पणियाँ

Loading...