भारत के फैसले पर चीन का विरोध, कहा- लद्दाख में चीनी क्षेत्र भी शामिल

1



बीजिंग। चीन ने भारत के उस फैसले का विरोध किया, जिसमें भारत ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने का ऐलान किया है। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने अपने भारतीय समकक्ष एस. जयशंकर से मुलाकात के दौरान कहा कि भारत ने लद्दाख के संबंध में जो फैसला किया है, उसमें चीनी क्षेत्र भी शामिल है।
वांग ने विदेश मंत्री जयशंकर के सामने रखी बात
जानकारी के मुताबिक, वांग ने चीन के दौरे पर गए विदेश मंत्री जयशंकर से कहा, ‘भारत सरकार ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने की घोषणा की। इसमें चीनी क्षेत्र भी शामिल है। भारत के इस कदम ने चीन की संप्रभुता को चुनौती दी है और सीमा क्षेत्र में शांति और स्थिरता बनाए रखने पर दोनों देशों के समझौते का उल्लंघन किया है।’
जयशंकर ने चीन के सामने दी सफाई
इसके जवाब में जयशंकर ने वांग से कहा कि लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के पीछे भारत का बाहरी सीमाओं या वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से संबंधित कोई निहितार्थ नहीं है। विदेश मंत्री ने स्पष्ट किया कि भारत कोई अतिरिक्त क्षेत्रीय दावे नहीं कर रहा है। चीनी मीडिया के मुताबिक चीन के विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया, ‘भारत का यह कदम चीन के लिए मान्य नहीं है और न ही इससे यथास्थिति बदलेगी। चीन इसमें शामिल क्षेत्रों पर संप्रभुता और प्रशासनिक अधिकार रखता है।’
भारत-पाकिस्तान के टकराव पर भी चिंता
इसके साथ ही वांग ने चीन की तरफ से मौजूदा कश्मीर की स्थिति और भारत-पाकिस्तान के टकराव को लेकर चिंता भी जाहिर की। उन्होंने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर की संवैधानिक स्थिति को समाप्त करने के लिए भारत के कदम से विवादित क्षेत्र की स्थिति बदल जाएगी और क्षेत्रीय तनाव पैदा हो जाएगा।’ चीनी विशेषज्ञों ने भारत की कार्रवाई को एकतरफा बताते हुए इसे पाकिस्तान को उकसाने का तरीका बताया है।विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..
 

ये भी पढ़े
1 की 699



Source link

قالب وردپرس

टिप्पणियाँ

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More