बाइक बोट का CEO गिरफ्तार, पांच हजार करोड़ रुपये की ठगी का आरोप

1




क्या है मामला नोएडा आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा के प्रभारी शीलेश यादव की मानें तो तरूण शर्मा दिल्ली के विकास नगर का रहने वाला है। पुणे से एमबीए करने बाद उसने आईटी जैक्स ग्लोबल कंपनी बनाई थी, लेकिन बाद में उसकी यह कंपनी बंद हो गई थी। इसके बाद आरोपी ने कई अन्य कंपनियों में काम किया। वर्ष 2018 में तरूण शर्मा संजय भाटी की कंपनी गर्वित लिमिटेड के साथ जुड़ कर कंपनी का सीईओ बन गया। पुलिस के मुताबिक बाइक बोट कंपनी का फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद आरोपी सीईओ तरूण शर्मा फरार चल रहा था। पुलिस लगातार उसकी गिरफ्तारी के प्रयास कर रही थी। क्या है बाइक बोट का फर्जीवाड़ा बता दें कि बाइक बोट स्कीम के तहत कंपनी ने बाइक टैक्सी चलाने के नाम पर लोगों से पैसे निवेश कराये थे। एक निवेशक से कंपनी 62100 रूपये लेती थी और इसके बदले 6765 रूपये एक साल तक प्रति माह देने की बात कहीं थी। लेकिन कुछ दिन ही लोगों के पैसे देने के बाद कंपनी ने लोगों के पैसे देने बंद कर दिये थे। जिसके बाद निवेशकों ने इसकी शिकायत पुलिस में की। शिकायत के बाद ही यह फर्जीवाड़ा सामने आया था। अब तक दस हुए गिरफ्तार बाइक बोट कंपनी के फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद सीईओ की दसवीं गिरफ्तारी है। इससे पहले गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड के एमडी, सात डायरेक्टर व एक अन्य कर्मचारी की गिरफ्तारी हो चुकी है। इस संबंध में एसएसपी गौतमबुद्ध नगर वैभव कृष्ण का कहना है कि आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा की एसआईटी ने करोड़ों का फर्जीवाड़ा करने वाली बाइक बोट कंपनी के सीईओ को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस इस मामले में शामिल अन्य आरोपियों को भी जल्द गिरफ्तार करेगी।



Source link

ये भी पढ़े
1 की 68

قالب وردپرس

टिप्पणियाँ

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More