तिहाड़ जेल में बंद कैदी के साथ घंटों गुजारती थी वक्त, हैरान करने वाली है इस महिला की ‘लव स्टोरी’

1




महिला खुद को एक एनजीओ की कार्यकर्ता बताती थी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला खुद को एक एनजीओ की कार्यकर्ता बताती थी और अपने प्रेमी से मिलने वह जेल के अंदर जाती थी। महिला ने ऐसा एक बार नहीं चार-चार बार किया। बताया जाता है कि महिला का प्रेमी हत्या के मामले में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है और उसे बैरक नंबर 2 में रखा गया है। आमतौर पर शनिवार के दिन जेल में कैदियों से किसी की मुलाकात नहीं होती, लेकिन उस दिन भी महिला ने कैदी से मुलाकात कर ली। ये भी पढ़ें: दिल्ली के नामी स्कूल में सफाईकर्मी ने किया 5 साल की मासूम से रेप, 20 साल से करता था नौकरी महिला ने 5 घंटे प्रेमी संग बिताए सूत्रों के मुताबिक, डयौढ़ी में बैरक नंबर 2 के ही एक अधिकारी की नजर इस महिला पर पड़ी। जब अधिकारी ने इसके बारे में पता किया तो कर्मचारियों ने बताया कि उक्त महिला के पास अंदर जाने की अनुमति है। कर्मचारियों ने ये भी बताया कि वह महिला पहले भी जेल के अंदर आ चुकी है। इसके बाद ये मामला जेल मुख्यालय पहुंचा। जेल अधीक्षक द्वारा महिला के नाम से जारी किए गए पास में उसे एनजीओ का कार्यकर्ता बताया गया है। महिला की जेल रजिस्टर में एंट्री तक नहीं एनजीओ का कार्यकर्ता बताने के कारण जेल प्रशासन ने महिला की रजिस्टर में एंट्री तक नहीं की। जाहिर है कि जेल प्रशासन ने महिला के रिकॉर्ड्स को चेक नहीं किया। बताया जा रहा है कि एनजीओ से जुड़े होने के कारण जेल में बंद कैदी की प्रेमिका होने की बात पर किसी को शक नहीं हुआ। यही वजह है कि महिला अपने प्रेमी के साथ 5 घंटे गुजारकर चली गई, और जेल प्रशासन इससे बेखबर रहा। अब ये भी जानकारी भी सामने आई है कि कैदी हेमंत ने जेल परिसर में मौजूद इंडियन बैंक के ब्रांच में अपना खाता भी खुलवाया है। पूरे मामले में अब जांच के आदेश दे दिए गए हैं। ये भी पढ़ें: क्या अमित शाह श्रीनगर के लाल चौक पर फहराएंगे तिरंगा? सरकार ने दिया ये बयान दिए गए जांच के आदेश बताया जा रहा कि जेल में अपने प्रेमी से मिलने वाली ये महिला उससे शादी करना चाहती है। कैदी हेमंत भी उससे शादी करना चाहता है। जबकि महिला पहले से शादीशुदा है और उसका एक बच्चा भी है। तिहाड़ जेल के बैरक नंबर दो की सुरक्षा पर अधिक ध्यान दिया जाता है। बावजूद इसके, महिला का इस तरह आना-जाना जेल की व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रहा है। जेल प्रशासन के अतिरिक्त महानिदेशक ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है और दोषी पाए जाने पर कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी।



Source link

ये भी पढ़े
1 की 702

قالب وردپرس

टिप्पणियाँ

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More